अब मध्य प्रदेश के शहर इंदौर का नाम हो जायेगा इतिहास की बात

अब मध्य प्रदेश के शहर इंदौर का नाम हो जायेगा इतिहास की बात

मध्य प्रदेश के शहर इंदौर का नाम अब इतिहास में ही रह जायेगा. जिस तरह से पिछले दो तीन सालों से सड़कों और रेलवे स्टेशनों के नाम बदले गए है और ऐसी आवाजें भ...

फूट-फूट कर रोए CM कुमारस्वामी, कहा- गठबंधन की सरकार का दर्द मैं ही जानता हूँ
गढ़ गणेश: जहाँ होती है बिना सूंड के गणेश जी की पुजा
दिखाईये अपना दिमागी कौशल, मोदी सरकार दे रही है इस चैलेंज को हल करने पर हज़ारों के इनाम

मध्य प्रदेश के शहर इंदौर का नाम अब इतिहास में ही रह जायेगा. जिस तरह से पिछले दो तीन सालों से सड़कों और रेलवे स्टेशनों के नाम बदले गए है और ऐसी आवाजें भी बीच-बीच में उठती रहती है, उससे लगता है अब जल्द ही इंदौर शहर का भी नया नामकरण हो जायेगा.

ताज़ा मामला मध्य प्रदेश का है जहाँ बीजेपी पार्षद ने इंदौर के नाम को बदलकर ‘इंदूर’ करने की मांग की है. बीजेपी पार्षद ने मंगलवार को प्रदेश की वाणिज्यिक राजधानी इंदौर की नगर निगम की मीटिंग में प्रस्ताव रखा. शहर के नगर निगम के अध्यक्ष अजय सिंह नारुका ने मीडिया कर्मियों से बातचीत करते हुए बताया की नगर निगम के वार्ड नंबर 70 बीजेपी के पार्षद सुधीर देड्गे ने शहर का नाम बदल कर ‘इंदूर’ करने की मांग की है.

अजय सिंह नारुका ने कहा की सुधीर द्वारा इस बाबत ऐतिहासिक तथ्य भी प्रमाण के रूप में पेश किये गए है. इंदौर शहर के नगर निगम के अध्यक्ष ने बताया की हम उनके ऐतिहासिक प्रमाणों को ध्यान में रखते हुए जरुरी और उचित कदम उठाएंगे.

बीजेपी पार्षद द्वारा उपलब्ध करवाए गए प्रमाणों के मुताबिक पहले इंदौर का वास्तविक नाम इंद्रेश्वर महादेव के नाम पर ‘इंदूर’ ही था. समय के साथ साथ और अंग्रेजों के उच्चारण सम्बन्धी दोषों के चलते शहर का नाम इंदौर हो गया, जो अभी तक प्रचलन में है. आपको बता दें की इंदौर शहर पहले के ज़माने में होलकर शासकों की राजधानी हुआ करता था. उस युग के ऐतिहासिक दस्तावेजों में भी इंदौर को ‘इंदूर’ के नाम से ही संबोधित किया गया है. जिसका विवरण इतिहास में वर्णित है.

 

 

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0