ऐसे बनाएं जौ का करामाती पानी, जो कर देगा सैंकड़ो बिमारियों को जड़ से खत्म

ऐसे बनाएं जौ का करामाती पानी, जो कर देगा सैंकड़ो बिमारियों को जड़ से खत्म

जौ का पानी नियमित रूप से पिया जाये तो इससे हमारे स्वास्थ्य को बहुत से लाभ होते हैं. पथरी और यूरिन इंफेक्‍शन होने की स्थिति में डॉक्टर आमतौर पर जौ का प...

सौ करोड़ की प्रोपर्टी छोड़कर संत बनने जा रहे दम्पति के मामले में आया नया मोड़
एक गिलास पानी इतना करामाती होता है ये जानकार आप आज से ही पीना शुरू कर दोगे
सावधान: मौसम विभाग ने फिर दी चेतावनी, अगले 48 घंटे इन राज्यों के लिए है खतरनाक

जौ का पानी नियमित रूप से पिया जाये तो इससे हमारे स्वास्थ्य को बहुत से लाभ होते हैं. पथरी और यूरिन इंफेक्‍शन होने की स्थिति में डॉक्टर आमतौर पर जौ का पानी पीनेने की ही सलाह देते हैं. वैसे तो जौ का पानी बहुत सी बिमारियों से हमें बचाता है लेकिन कुछ गंभीर बिमारियों में ये विशेष फायदा पहुंचता है.

उत्तर भारत पर छाई धूल की चादर, प्रदूषण पहुंचा खतरनाक स्तर पर- जनजीवन हुआ प्रभावित

जौ का पानी कोलेस्ट्रॉल को कम कर हृदय रोगों से बचाता है. जौ में आयरन, मैगनीज, जिंक, कॉपर, जस्ता, कैल्शियम, मैग्नीशियम, प्रोटीन, सेलेनियम, डायट्री फाइबर्स, अमीनो एसिड और कई तरह के एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं. हमने आपको हमारी पिछली पोस्ट में बताया था की जौ का पानी हमारे लिए कितना महत्वपूर्ण है.. आज हम आपको बताएँगे की जौ का पानी घर पर ही कैसे तैयार किया जा सकता है.

आवश्यकता के अनुसार, जैसे एक कप जौ को पानी से साफ करें बाद में इसे कम-से-कम 3 कप पानी में भिगों दें. तीन घन्टे बाद जौ पानी से अलग करें और 3-4 कप अलग से पानी लें. भीगे हुए जौ अलग पानी में डालकर 30 मिनट के लिए उबालें. इस पानी को छानकर ठंडा होने तक छोड़ दें. फिर आप एक कप जौ का पानी एक बार में घूँट-घूँट कर पी जाएँ.

मेहमान को पिलायें ग्रीन टी, फायदा ही फायदा है- मेहमानवाजी का नया तरीका

आप छिलके वाले और बिना छिलके वाले दोनों में से कोई भी जौ लें सकते है लेकिन छिलके वाले जौ उबलने में ज्यादा समय लेते हैं. जौ के बारे में एक खास बात ध्यान रखने योग्य यही है की जौ ज्यादा पुराना नहीं होना चाहिए यानी अधिकतम एक साल पुराना जौ आप यूज़ कर सकते हो. अगर आपको जौ के पानी का स्वाद अच्छा न लगे तो उसमें शहद और नींबू का रस मिला कर भी पी सकते हैं.

अधिक सेवन से जौ का पानी आप एक दिन में 2-3 कप से ज्यादा न पीएं. निर्धारित मात्रा से अधिक लेने से रैशेज, एलर्जी अथवा क्रॉनिक कब्ज हो सकती हैं. अगर आप नियमित रुप से जौ का पानी पीते है तो यह आपके शरीर के विषैले तत्वों को मूत्र द्वारा बाहर निकलने में सहायता करता है. जौ में मौजूद बीटा-ग्लु‍कन नामक शर्करा समूह, शरीर के विषैले तत्वों को बाहर निकाल कर शरीर की आंतरिक सिस्टम को साफ करता हैं.

शुगर और पथरी के अलावा इन बिमारियों में भी रामबाण होता है जौ का पानी

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0