होली विशेष: जानिये क्या होता है होलाष्टक? क्यूँ नहीं करते इन दिनों शुभ कार्य- जानिए पूरी जानकारी यहाँ

होली विशेष: जानिये क्या होता है होलाष्टक? क्यूँ नहीं करते इन दिनों शुभ कार्य- जानिए पूरी जानकारी यहाँ

फागुन माह की पूर्णिमा को मनाया जाने वाला होली का त्यौहार भारत के प्रमुख त्यौहारों में से एक है. इस साल यह त्यौहार 1 और 2 मार्च को मनाया जायेगा. होली स...

दिशा पाटनी ने अपने बर्थडे पर करवाया हॉट फोटोशूट, फैन्स तो उसकी इन तस्वीरों को देखकर पागल हो जायेंगे
Real Heart Touching# जिसने भी देखा रो पड़ा, पार्टी के लिए गरीब को धोखा देने की रुला देने वाली दास्ताँ
जानिए मोबाइल, ई-मेल और वेबसाइट के हिंदी नाम

फागुन माह की पूर्णिमा को मनाया जाने वाला होली का त्यौहार भारत के प्रमुख त्यौहारों में से एक है. इस साल यह त्यौहार 1 और 2 मार्च को मनाया जायेगा. होली से आठ दिन पहले अर्थात फागुन माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी से शुरू हो जाता है होलाष्टक. होलाष्टक एक प्रकार से होली का पूर्व सूचक ही होता है और इसी दिन से ही होलिका दहन की तैयारियां भी शुरू कर दी जाती है.

होली और अष्टक नामक दो शब्दों से मिलकर बने होलाष्टक शब्द का शाब्दिक अर्थ होता है होली के आठ दिन. इस आठ दिनों की गिनती फागुन माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी से शुरू होकर होलिका दहन तक की जाती है, शायद अष्टमी तिथि से शुरू होने की वजह से ही होलाष्टक कहा जाता हो. माना जाता है कि होलाष्टक के दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता क्योंकि इसके दौरान सौरमंडल के सभी ग्रह उग्र स्वभाव में रहते है. होलाष्टक प्रारम्भ होने पर होलिका दहन के लिए निर्धारित की गई जगह को गाय के गोबर से लीपकर गंगाजल छिडकें, फिर लकड़ी के रूप में होलिका और प्रह्लाद की स्थापना करें. इसके अलावा होलिका दहन तक अन्य शुभ कार्य वर्जित कहे गए हैं.

होलाष्टक के आठ दिनों में प्रथम दिन चंद्रमा, दुसरे दिन सूर्य, तीसरे दिन शनि, चौथे दिन शुक्र, पांचवें दिन गुरु और छ्टे, सातवें और आठवें दिन क्रमशः बुध, मंगल और राहू उग्र स्वभाव में रहते हैं. ज्योतिष के अनुसार इस दौरान मनुष्य अपने विवेक और बुद्धि से सही निर्णय ले पाने में अपेक्षाकृत कमजोर रहता है. इस दौरान लिए गए फैसले से हानिकारक परिणाम आने की संभावनाएं अधिक रहती है.

ज्योतिष के अनुसार इस आठ दिनों में विवाह, गृहप्रवेश, निर्माण कार्य का शुभारम्भ और गर्भाधान तथा नामकरण जैसे शुभ कार्यों को नहीं करना चाहिए. ज्योतिष की दृष्टि से होलाष्टक के आठ दिनों को अशुभ माना जाता है. 23 फरवरी से शुरू होने वाले होलाष्टक 1 मार्च को समाप्त हो रहे हैं. कहा जाता है कि भगवान विष्णु के परम भक्त प्रह्लाद को उसके पिता हिरण्यकश्यप ने होली से पहले इन आठ दिनों में मारने के तमाम असफल प्रयास किये थे. इन्ही आठ दिनों में हिरण्यकश्यप ने क्रूरता की सभी सीमाएं पार करते हुए प्रह्लाद को जघन्य कष्ट दिए थे. इन्ही सब कारणों से हिन्दू धर्म में होलाष्टक के आठ दिनों को अशुभ माना जाता है और कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता.

 

COMMENTS

WORDPRESS: 6
  • comment-avatar

    Hello There. I found your blog using msn. This is a really well written article.

    I’ll be sure to bookmark it and come back to read more
    of your useful information. Thanks for the post. I’ll
    certainly return. https://www.sbnation.com/users/Jimgriffin

  • comment-avatar
  • comment-avatar

    What i don’t understood is in reality how you are no longer actually a lot more smartly-liked than you may be now.
    You’re so intelligent. You already know therefore considerably when it comes to this topic, made me in my opinion imagine it from numerous varied angles.
    Its like men and women aren’t involved unless it’s something to
    do with Woman gaga! Your individual stuffs nice. At all times handle it up! https://dribbble.com/Jimgriffin

  • comment-avatar

    Ahaa, its good conversation on the topic of this paragraph at
    this place at this weblog, I have read all that, so now me also commenting at
    this place. http://mastermindboost.net/

  • comment-avatar

    WOW just what I was searching for. Came here by searching for healthcare center http://vytoplexcbd.net/

  • comment-avatar
  • DISQUS: 0