अबकी बार- पैट्रोल की मार, जा पहुंची 80 के पार

अबकी बार- पैट्रोल की मार, जा पहुंची 80 के पार

सरकार के तमाम दावों और प्रयासों के बावजूद पैट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों से आम आदमी को राहत मिलती नज़र नहीं आ रही है. अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में क्...

डीजल की कीमतों में रिकार्ड तोड़ उछाल, छूआ अब तक का उच्चतम स्तर
चुनाव नतीजों से पहले ही लगी पैट्रोल-डीजल की कीमतों में आग, छुआ पांच साल का उच्चतम शिखर
एटीएम का यूज़ करने वालों के लिए खुशखबरी, अब इन बैंकिंग सेवाओं पर नहीं लगेगा GST

सरकार के तमाम दावों और प्रयासों के बावजूद पैट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों से आम आदमी को राहत मिलती नज़र नहीं आ रही है. अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में क्रूड आयल की लगातार बढती जा रही कीमतों का असर आम आदमी की जेब पर भारी पड़ता जा रहा है. मंगल वार को मुंबई में पैट्रोल की कीमत 80.23 रूपए प्रति लीटर तक जा पहुंची है. वहीँ, डीजल की कीमत भी पहले से बढ़कर 67.28 रूपए प्रति लीटर तक पहुँच चुकी है.

इसी बीच सरकार ने कहा है कि हम लगातार प्रयास कर रहे हैं कि पैट्रोल-डीजल को GST के दायरे में लाया जाए ताकि महंगाई से जूझ रहे उपभोक्ता को राहत मिल सके. इससे पहले GST परिषद् की 28वीं बैठक जो तीन दिन पहले ही संपन्न हुई थी, में इस बाबत कोई मुद्दा नहीं उठाया गया. अब इस बारे में ऑयल मिनिस्टर धर्मेंद्र प्रधान का कहना है कि परिषद जल्द ही इस मामले में कोई बड़ा फैसला ले सकती.

आपको बता दें कि अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की कीमतों में निरंतर वृद्धि हो रही है. ऐसा ओपेक देशों द्वारा कच्चे तेल के उत्पादन में कटौती के निर्णय को लेकर हुआ है. दूसरा, पैट्रोल और डीजल पर राज्य सरकार द्वारा वसूल किये वैट की वजह से भी कीमतों में लगातार इजाफा हो रहा है. अगर पैट्रोल-डीजल और केरोसिन को GST के दायरे में लाने पर इनकी कीमत 50 रूपए से भी कम हो जाएगी.

COMMENTS