अब माँ वैष्णो देवी की यात्रा पर जा सकेंगे सिर्फ 50,000 भक्तजन, NGT ने रोका निर्माण कार्य

अब माँ वैष्णो देवी की यात्रा पर जा सकेंगे सिर्फ 50,000 भक्तजन, NGT ने रोका निर्माण कार्य

माता वैष्णो देवी धाम को लेकर NGT का एक बड़ा फैसला आया है. इस फैसले में NGT ने माता वैष्णो देवी में सभी प्रकार के निर्माण कार्य पर रोक लगा दी है. NGT न...

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ साल का सबसे बड़ा ऑपरेशन, 11 आतंकी ढ़ेर- एक ने किया आत्मसमर्पण
पीएम मोदी ने मनाई परिवार संग दिवाली, सेना को बताया अपना परिवार
पाक की फिर नापाक हरकत, पुंछ में कर रहा भारी गोलाबारी

माता वैष्णो देवी धाम को लेकर NGT का एक बड़ा फैसला आया है. इस फैसले में NGT ने माता वैष्णो देवी में सभी प्रकार के निर्माण कार्य पर रोक लगा दी है. NGT ने माता के दर्शनों के लिए आने वाले भक्तों की संख्या को भी सीमित करने का भी निर्णय लिया है. इस निर्णय के मुताबिक अब एक दिन में मात्र 50 हज़ार श्रद्धालु ही माता के दर्शन कर पाएंगे.

NGT ने कहा की माता के दर्शनों के लिए किसी भी प्रकार से भीड़ ना हो, अगर एक यात्रा में दर्शनों को आने वाले श्रद्धालु 50 हज़ार से ज्यादा हो जाये तो उन्हें कटरा में ही रोक लिया जाये, दूसरी स्थिति में भीड़ ज्यादा होने की सूरत में श्रद्धालुओं को यात्रा के ख़ास पड़ाव अर्धकुआंरी में रोक लिया जाये, लेकिन भवन पर किसी भी स्थिति में भीड़ ना हो.

श्राइन बोर्ड को भी NGT ने आदेश जारी करते हुए श्रद्धालुओं के लिए नया रास्ता खोलने के लिए कहा है. नए आदेश के अनुसार नए रस्ते पर सिर्फ बैट्री चालित छोटे वाहन और श्रद्धालु ही जा पाएंगे. कटरा में कचरा फैलाने को लेकर 2000 रूपए जुर्माना लगाया जाना भी निर्धारित किया गया है. आपको बता दें की श्राइन बोर्ड के अंडर माता वैष्णो देवी भवन और यात्रा से सम्बंधित सभी मुद्दे आते है,  प्रदेश के राज्यपाल के अधीन काम करने वाला श्राइन बोर्ड सभी प्रकार की सुविधाओं की निगरानी करता है.

जम्मू कश्मीर के जिला रियासी के अंतर्गत तहसील कटरा से शुरू होने वाली माँ वैष्णो देवी की यात्रा में हजारों की संख्या में रोजाना भक्त जन पहुँचते है. 14 किलोमीटर की यात्रा बाण गंगा से चलकर चरण पादुका और अर्धकुआंरी गुफा से होती हुई माँ वैष्णो देवी भवन और आखिर में भैरों घटी तक पहूंचती है. जहाँ छुटियों और खासकर गर्मियों में यात्रियों की संख्या बहुत अधिक हो जाती है.

COMMENTS