इस दिन बंद रहेंगे 54000 पेट्रोल पंप, अपनी आवश्यकता अनुसार पहले ही कर ले बंदोबस्त

इस दिन बंद रहेंगे 54000 पेट्रोल पंप, अपनी आवश्यकता अनुसार पहले ही कर ले बंदोबस्त

‘एक देश एक कर’ मांग को लागू करवाने के पक्ष में देशभर के करीब 54000 पेट्रोल पंप हड़ताल पर जाने वाले है. देश भर के करीब 54,000 पेट्रोल पंप 1...

दिल्ली से अम्बाला जाना था- स्टेशन से रवाना होते ही हथियारबंद लुटेरों ने लूट ली ट्रेन
आपत्तिजनक फोटो व्हाट्सएप ग्रुप में डालने पर ग्रुप एडमिन की हत्या
सरकार की नई नीति, अब ‘शराबबंदी’ की तरह ‘जुआबंदी’ भी

‘एक देश एक कर’ मांग को लागू करवाने के पक्ष में देशभर के करीब 54000 पेट्रोल पंप हड़ताल पर जाने वाले है. देश भर के करीब 54,000 पेट्रोल पंप 13 अक्टूबर को दिनभर की हड़ताल पर रहेंगे. सभी पेट्रोल पंप डीलरों के तीन राष्ट्रव्यापी संगठनों के अम्ब्रेला संगठन, फेडरेशन ऑफ महाराष्ट्र पेट्रोल डीलर एसोसिएशन (एफएएमपीईडीए) के अध्यक्ष उदय लोध ने कहा कि संयुक्त पेट्रोलियम मोर्चा की पहली संयुक्त बैठक में यह मुद्दा उठाया गया, जिसमें यह फैसला लिया गया है.
उदय लोध ने कहा, “सभी पेट्रोलियम पदार्थों को अनिवार्य रूप से वस्तु एवं सेवा कर शासन के तहत लाया जाना चाहिए, ताकि हमारी लंबे समय से लंबित ‘एक देश एक कर’ की मांग पूरी हो, जिससे ग्राहकों को फायदा होगा.”
हालाँकि उन्होंने दैनिक मूल्य संशोधन प्रणाली का विरोध किया और उसे किसी के लिया भी इसे अनुकूल नहीं बताया. उन्होंने जुलाई से लागू दैनिक मूल्य संशोधन ढांचे की समीक्षा की मांग की और कहा कि यह न तो ग्राहकों और न ही डीलरों के लिए फायदेमंद है. लोध के मुताबिक, प्रस्तावित पेट्रोलियम पदार्थों की ‘होम डिलिवरी’ सुविधा से कई सुरक्षा चिंताएं जुड़ी हैं, जिसके कारण कई गंभीर दुर्घटनाएं हो सकती हैं. इसलिए इस पर पुनर्विचार की जरूरत है.
श्री उदय लोध ने कड़े सुर में सरकार को चेताया है. लोध ने कहा, ‘अगर हमारी मांगें नहीं मानी जाती हैं तो पहले कदम के तौर पर देश भर के 54,000 पेट्रोल पंप 13 अक्टूबर को खरीद-बिक्री बंद रखेंगे. अगर हमारी मांगें फिर भी नहीं मानी जाती हैं तो हम 27 अक्टूबर से अनिश्चितकालीन राष्ट्रव्यापी हड़ताल करेंगे.’
उनका कहना था कि हमारा मकसद केवल अपनी मांग मनवाना है और हम आम उपभोक्ता को कतई परेशान करने की मंसा नहीं है.

COMMENTS