‘एफआरडीआई’ को लेकर मीडिया ने फैलाई गलत अफवाह, बैंकों में आपका पैसा सुरक्षित- अरुण जेटली

‘एफआरडीआई’ को लेकर मीडिया ने फैलाई गलत अफवाह, बैंकों में आपका पैसा सुरक्षित- अरुण जेटली

एफआरडीआई को लेकर चल रही ख़बरों का खंडन करते हुए आज वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा की एफआरडीआई विधेयक जमाकर्ताओं के हितों का संरक्षण करेगा. इस बाबत उन्...

क्या होता है जब आप खा लेते है एक्सपायर्ड दवाई? रिसर्च में आये चौंकाने वाले नतीजे
Paytm Money लॉन्च, अब मात्र सौ रुपये से कर सकेंगे म्युचुअल फंड में निवेश की शुरुआत
अमेरिका का सीरिया के खिलाफ युद्ध का ऐलान, दनादन दागी 100 से ज्यादा मिसाइलें- दहल उठा दमिश्क

एफआरडीआई को लेकर चल रही ख़बरों का खंडन करते हुए आज वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा की एफआरडीआई विधेयक जमाकर्ताओं के हितों का संरक्षण करेगा. इस बाबत उन्होंने कहा की मीडिया में ‘एफआरडीआई’ को लेकर गलत अफवाहें फैलाई जा रही है, जिनका सच्चाई से दूर दूर तक कोई सम्बन्ध नहीं है. जेटली ने आज ट्विट किया, ‘‘वित्तीय निपटान एवं जमा बीमा विधेयक, 2017 (एफआरडीआई) विधेयक स्थायी समिति के समक्ष लंबित है. सरकार का उद्देश्य वित्तीय संस्थानों तथा जमाकर्ताओं के हितों का पूर्ण संरक्षण करना है.’’ वित्त मंत्री ने कहा की सरकार इस उद्देश्य को लेकर प्रतिबद्ध है.

गौरतलब है की मीडिया में ऐसी ख़बरें चल रही थी जिनमे कहा जा रहा था की केंद्र सरकार एक ऐसा विधेयक लाने जा रही है जिस के पास हो जाने की स्थिति में आपके बैंक में जमा धन पर आपका हक़ खत्म होने का खतरा हो जायेगा. इस विधेयक को लेकर आर्थिक मामलों के सचिव श्री गर्ग ने कहा है की एफआरडीआई जमाकर्ताओं के हितों के संरक्षण का प्रस्ताव करता है. श्री गर्ग ने कहा है की यह विधेयक वास्तव में मौजूदा संरक्षणों का विस्तार करता है.

आपको बता दें की सेंटर सरकार ने एफआरडीआई बिल 2017 को अगस्त में लोकसभा में पेश किया था. तब मानसून सत्र के दौरान पेश किये गए बिल को ज्वाइंट पार्लियामेंट्री कमेटी को सुझाव के लिए रेफर किया गया था. अब एक बार फिर चर्चा है की सेंटर सरकार ज्वाइंट पार्लियामेंट्री कमेटी के सुझावों के बाद नए बिल के प्रस्ताव को संसद में पेश करने की तैयारी कर रही है.

एफआरडीआई बिल अर्थात ‘फाइनेंशियल रेजोल्यूशन एंड डिपॉजिट इंश्योरेंस’ बिल का गठन वित्तीय संस्थानों जैसे की बैंकों आदि के दिवालिया होने की हालातों से निपटने के लिए किया गया है. नियमों के मुताबिक बैंको में ज़मा, जमाकर्ताओं की कुल पूंजी का अधिकतम एक लाख रूपए सुरक्षित होता है. यह जिम्मेदारी डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन की तरफ से दी जाती है.

COMMENTS