ऑक्सीजन की आपूर्ति रोकना बना नौनिहालों का काल, लील ली 60 जिंदगियां

BRD मेडिकल कॉलेज पर 80 लाख बकाया, 4 अगस्त को कर दी थी ऑक्सीजन सप्लाई बंद

गोरखपुर के सरकारी मेडिकल कॉलेज में 2 दिन में 26 बच्चों समेत 30 लोगों की मौत का मामला गरमाया हुआ है. युपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के क्षेत्र गोरखपुर का ...

अब हरियाणा में फटा बॉयलर, कल शुरू हुई फैक्टरी- आज तब्दील हुई राख में
बाबा रामदेव के भाई ने बताई ये राज की बात
अब जल्द ही आपके हाथों में होगा 200 का नोट, कल हो रहा लांच

गोरखपुर के सरकारी मेडिकल कॉलेज में 2 दिन में 26 बच्चों समेत 30 लोगों की मौत का मामला गरमाया हुआ है. युपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के क्षेत्र गोरखपुर का ये मामला है जहाँ पिछले 5 दिनों में 60 से ज्यादा लोग काल की भेंट चढ़ चुके है यूपी के स्वस्थ्य मंत्री के मुताबिक ये सही है की मेडिकल कॉलेज की ओक्सीजन सप्लाई बंद हुए लेकिन बच्चों की मौत की ये वजह नहीं है. उधर योगी आदित्यनाथ ने आज कहा है की “मामले की जाँच की जा रही है और जो भी दोषी पाए जायेंगे उन्हें किसी भी कीमत पर बक्शा नहीं जायेगा”

योगी ने कहा, “मरीज इंसेफलाइटिस बीमारी से ग्रसित थे, जो गन्दगी की वजह से पनपती है. वहां जो कुछ भी हुआ है, वह गलत हुआ है, जांच कराई जा रही है. किसी दोषी को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा. क्यों, कैसे का कोई जवाब सुनने की गुंजाइश नहीं बची है, कार्रवाई होगी और निश्चित होगी, ताकि इस तरह की घटनाएं दोबारा ना हों”

पीऍम नरेंदर मोदी ने इस घटना पर दुःख व्यक्त किया है. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल को गोरखपुर भेजा गया है. वो मामले की विस्तृत रिपोर्ट तैयार करेंगी. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल ने कहा की प्रधानमंत्री श्री मोदी जी ने घटना पर दुःख प्रकट किया है. वहीँ सरकार ने बीआरडी कॉलेज के प्रिंसिपल को तुरंत प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है

लाखों रूपए है बकाया: दरअसल, बीआरडी मेडिकल कालेज पर छह महीने का करीब 80 लाख रूपए का बकाया जो कई बार चिट्ठियां लिखने के बाद भी भुगतान नही किया गया. गुजरात की सप्लायर कंपनी पुष्पा सेल्स का के मुताबिक उन्हें 1 अगस्त को चेतावनी भी दी गयी थी जबकि 4 अगस्त को सप्लाई बंद की गयी है.

कांग्रेस ने माँगा योगी का इस्तीफा: हॉस्पिटल के दौरे पर पहुंचे कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा- “इस घटना से देश आहत हुआ है। सरकार की लापरवाही की वजह से बच्चों के परिवारों को दुख पहुंचा है. यूपी के सीएम, हेल्थ मिनिस्टर और हेल्थ सेक्रेटरी को फौरन इस्तीफा देना चाहिए. ये उनकी जिम्मेदारी है, वो पीछे नहीं हट सकते हैं. इसमें डॉक्टरों की कोई गलती नहीं है. हमने पहले भी हॉस्पिटल में मदद की है.”

COMMENTS