औंधे मुंह गिरा बिटकॉइन, निवेशकों में मची अफरा-तफरी

औंधे मुंह गिरा बिटकॉइन, निवेशकों में मची अफरा-तफरी

दुनियाभर में तहलका मचाने वाली वर्चुअल करेंसी बिटकॉइन की कीमतों में गिरावट का दौर जारी है. पिछले साल 19 हज़ार डॉलर (लगभग 12.50 लाख रूपए) का रिकॉर्ड स्तर...

सावन में ऐसे करें भोलेनाथ को प्रसन्न, सम्पूर्ण व्रत विधि एवं मुहूर्त
खुशखबरी: अब इन वाहनों को चलाने के लिए जरुरी नहीं होगा हैवी लाइसेंस, आर्डर जारी
गठबंधन में गाँठ: मायावती का कांग्रेस को झटका, MP और राजस्थान में अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान

दुनियाभर में तहलका मचाने वाली वर्चुअल करेंसी बिटकॉइन की कीमतों में गिरावट का दौर जारी है. पिछले साल 19 हज़ार डॉलर (लगभग 12.50 लाख रूपए) का रिकॉर्ड स्तर छूने वाले बिटकॉइन में एक महीने में ही करीब 65 फीसदी की गिरावट दर्ज़ की गयी है. इस गिरावट ने निवेशकों के होश फाक्ता कर दिए हैं. कॉइनडेस्क के अनुसार पिछले महीने से बिटकॉइन में इतनी गिरावट दर्ज़ की गयी है जितनी पहले कभी नहीं हुई. इस गिरावट को वर्चुअल करेंसी के जानकार क्रिप्टोकरंसी का ‘खूनी खेल’ तक बता रहे हैं.

मंगलवार को वर्चुअल करेंसी बिटकॉइन में गिरावट का दौर जारी रहने के साथ इसका कारोबार 5900 डॉलर (लगभग 3 लाख 90 हज़ार रूपए) पर आ गया. जबकि पिछले महीने इसका स्तर 17 हज़ार डॉलर (लगभग 11 लाख रूपए) था. क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज बिटस्टैंप के अनुसार बिटकॉइन में 65 फीसदी की गिरावट आयी है जो निवेशकों के लिए गहन चिंता का विषय है.

बिटकॉइन में गिरावट की मुख्य वजह रूस को माना जा रहा है. कॉइनडेस्क वेबसाइट के अनुसार रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने क्रिप्टोकरंसी को लेकर निकट भविष्य में कानून बनाये जाने की बात कही थी. उन्होंने कहा था की हम जल्द ही बिटकॉइन जैसी वर्चुअल करेंसी पर लगाम लगाने के बारे में विचार कर रहें हैं. इधर, भारत ने भी वर्चुअल करेंसी बिटकॉइन को लेकर अपना रुख स्पष्ट कर दिया है. आम बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि बिटकॉइन को लीगल टेंडर नहीं माना जा सकता. वित्त मंत्री ने यह भी कहा था कि सरकार बिटकॉइन पर अंकुश लगाने की तैयारी कर रही है. सरकार की इस घोषणा के बाद से ही इसकी कीमतों में लगातार गिरावट का दौर जारी है.

 

COMMENTS