छावनी में तब्दील सिरसा, 3 जिलों में धारा 144 लागू- कभी भी बंद हो सकता है इन्टरनेट

छावनी में तब्दील सिरसा, 3 जिलों में धारा 144 लागू- कभी भी बंद हो सकता है इन्टरनेट

जनता से शांति और धैर्य रखने की अपील

सिरसा: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की साध्वी यौन शोषण मामले में सीबीआई कोर्ट पंचकुला में 25 अगस्त को पेशी है, इस मामले में कोर्ट के फैसला स...

राम रहीम ने सीबीआई कोर्ट के फैसले को दी हाई कोर्ट में चुनौती
30 जनवरी से बंद होने जा रही है एयरसेल की सेवायें, जल्द करें अपना नंबर पोर्ट
हरियाणा में बीजेपी को बड़ा झटका, राजकुमार सैनी ने किया अलग पार्टी बनाने का फैसला

सिरसा: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की साध्वी यौन शोषण मामले में सीबीआई कोर्ट पंचकुला में 25 अगस्त को पेशी है, इस मामले में कोर्ट के फैसला सुनाये जाने की संभावनाओं के मद्देनज़र राज्य में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गयी है. सीबीआई कोर्ट के फैसले से पहले ही प्रदेश के 9 जिलों में अर्ध सैनिक बलों की तैनाती कर दी गयी है, जाट आन्दोलन और रामपाल प्रकरण से सबक लेने के बाद हरियाणा सरकार किसी भी सूरत में जोखिम लेने के मूड में नहीं दिख रही है. चप्पे चप्पे पर पुलिस, IRB के जवान और अर्ध सैनिक बलों की तैनाती सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद होने का प्रमाण है. कोई भी अप्रिय घटना ना हो इसके लिए पुलिस ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है.
राजस्थान, पंजाब, उत्तर प्रदेश समेत राज्य के साथ लगती सभी सीमाओं पर चेकिंग अभियान शुरू हो चुका है. सभी पड़ोसी राज्यों का पुलिस प्रशासन भी पूरी तरह अलर्ट पर है.
सिरसा में 20 अगस्त रविवार को महासत्संग का आयोजन किया गया, हजारों की संख्या में लोग सेंकडो वाहनों से सिरसा पहुंचे. प्रशासन को काफी मशक्कत करनी पड़ी. इसके चलते आम जनता की सुरक्षा व कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिला उपायुक्त ने धारा 144 लगाने के आदेश जारी किये है. इसके धारा के मुताबिक़ 5 या 5 से अधिक व्यक्ति एक जगह एकत्रित होने पर मनाही है और इसकी अवहेलना करने वाले पर धारा 188 के तहत कार्रवाही होगी.
हरियाणा DGP ने आमजन से शांति और धैर्य रखने की अपील की है. पुलिस ने जनता से अनुरोध किया कि कानून का सम्मान करें और किसी भी गुप्त मीटिंग और हिंसक कार्रवाही में भाग ना लें.
आम जनता से अनुरोध किया गया की डेरा से सम्बंधित किसी भी प्रकार का कोई भ्रामक प्रचार ना करें. प्रदेश में भाईचारा कायम रखें. सोशल मीडिया में किसी भी प्रकार की भड़काऊ सामग्री पोस्ट ना करें, अफवाहों पर ध्यान ना दें. कानून का उल्लंघन करने वाले पर कार्रवाही की जाएगी. उन्होंने कहा की शरारती तत्वों से सरकारी और निज़ी सम्पति को नुक्सान ना पहुंचे इसके लिए पुलिस फाॅर्स ने प्लानिंग बनायी हुई है.

COMMENTS