ताजमहल को बनवाया था गद्दारों ने जो हमारी संस्कृति पर धब्बा है – बीजेपी नेता संगीत सोम

ताजमहल को बनवाया था गद्दारों ने जो हमारी संस्कृति पर धब्बा है – बीजेपी नेता संगीत सोम

ताजमहल का नाम पर्यटन स्थलों की सूची से हटाने बाद का विवाद अभी ठंडा ही नहीं हुआ कि बीजेपी के एक नेता ने ताजमहल को लेकर फिर विवादास्पद बयां दिया है. बीज...

जानिए क्यों लगाया जाता है नन्दलाल को छप्पन भोग, कौन-कौन से आहार होते है और क्या है इसकी कहानी?
सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर CJI पर लगाये गंभीर आरोप, मच गया हडकंप
पीएम मोदी का गुजरात को तोहफा, रो रो के उद्घाटन से आठ घंटे की दुरी सिमटी घंटे भर में

ताजमहल का नाम पर्यटन स्थलों की सूची से हटाने बाद का विवाद अभी ठंडा ही नहीं हुआ कि बीजेपी के एक नेता ने ताजमहल को लेकर फिर विवादास्पद बयां दिया है. बीजेपी के विवादास्पद विधायक संगीत सोम ने ताजमहल को ‘भारतीय संस्कृति पर कलंक’ बताते हुए कहा, कि इसका निर्माण ‘गद्दारों’ ने किया था.

भाजपा नेता संगीत सोम ने मेरठ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि, “उत्तर प्रदेश के पर्यटन स्थलों की सूची से आगरा के ताजमहल का नाम हटाने से काफी लोग निराश हैं. हम किस इतिहास की बात कर रहे हैं. किसका इतिहास? कौन सा इतिहास?” सरधाना के विधायक ने कहा की, “क्या वो इतिहास की ताजमहल का निर्माण करने वाले शाहजहाँ ने अपने पिता को कैद कर लिया था.” सोम ने आगे बोलते हुए कहा की “क्या वो इतिहास जिसने उत्तरप्रदेश और पुरे हिंदुस्तान से हिन्दुओं का खत्म करने का काम किया था?” ऐसे लोगों का अगर इतिहास में नाम होगा तो ये दुर्भाग्य की बात होगी.

सोम ने कहा कि ताजमहल हमारी संस्कृति पर एक धब्बे के रूप में है. मेरठ में बोलते हुए संगीत सोम ने कहा  “ताजमहल (शाहजहां) का निर्माण कराने वाले ने अपने पिता को कैद कर दिया था. वह भारत से सभी हिंदुओं को मिटा देना चाहता था. अगर ऐसे लोग हमारे इतिहास का हिस्सा हैं, तो यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. मैं आपको सुनिश्चित करता हूं कि हम इस इतिहास को बदल देंगे.”

संगीत की ताजमहल पर इस टिप्पणी के बाद से सोशल मीडिया पर एक बहस सी छिड़ गयी है. कुछ लोगों ने तो ट्विटर पर सोम को गाली तक दे डाली, जबकि एक बड़ा तबका सोम के पक्ष में भी ट्वीट कर रहा है. हालाँकि उनके इस बयान के बाद से बीजेपी के प्रवक्ता ने इसे उनकी निजी राय बताकर पल्ला झाड़ लिया. आपको बता दें कि जून में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्पष्ट किया था कि मुगल बादशाह शाहजहां द्वारा बनवाया गया ताजमहल प्यार का स्मारक है, ये किसी भी रूप में भारतीय संस्कृति का परिचायक नहीं है.

COMMENTS