दलाई लामा से सम्बन्ध रखने वाला कोई भी देश होगा चीन का अपराधी

दलाई लामा को लेकर एक बार फिर से चीन ने दुनिया भर के सभी देशों को चेतावनी दी है. चीन ने स्पष्ट रूप से दुनिया के सभी देशों के नेताओं को आगाह करते हुए हु...

मुकेश अम्बानी ने दिया चीन को झटका, बने एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति
अब हवा भी बिक रही ऑनलाइन, बढ़ते प्रदूषण ने खड़ा किया नया बिज़नस
आख़िरकार चीन ने ड़ोकलाम विवाद पर तोड़ी चुप्पी, कहा- कई दौर की बातचीत से निकला हल

दलाई लामा को लेकर एक बार फिर से चीन ने दुनिया भर के सभी देशों को चेतावनी दी है. चीन ने स्पष्ट रूप से दुनिया के सभी देशों के नेताओं को आगाह करते हुए हुए शनिवार को कहा की, “बोद्धों के धार्मिक गुरु दलाई लामा से मिलने वाला या मेजबानी करने वाला किसी भी देश का नेता हमारी भावनाओं को ठेस पहुँचाने का अपराध करेगा, और ये चीन की नज़र में एक प्रमुख अपराध है.

आपको बता दें की चीन समय समय पर दुनिया के सभी देशों को चेताता रहता है कि दलाई लामा से राजनयिक न रखें क्योंकि वह एक अलगाववादी नेता है और चीन से तिब्बत को अलग करने की साजिश कर रहे है. चीन के मुताबिक उसके साथ राजनयिक सम्बन्ध रखने वाले देश के लिए तिब्बत को चीन का हिस्सा मानना जरुरी है. इसी साल के शुरुआत में जब भारत ने तिब्बत के धार्मिक गुरु दलाई लामा को अरुणाचल प्रदेश समेत नॉर्थ-ईस्ट में कहीं भी जाने की इजाजत दी थी तब भी चीन ने इसका पुरजोर विरोध किया था.

चीन की सत्ताधारी पार्टी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के यूनाइटेड फ्रंट वर्क डिवेलपमेंट के एग्जिक्यूटिव वाइस मिनिस्टर जैंग यीजॉन्ग ने कहा, अगर दुनिया का कोई भी नेता या देश जो दलाई लामा से किसी भी प्रकार से सम्बन्ध रखता है तो वो चीनी लोगों की भावना से खिलवाड़ करने का काम करेगा.  उन्होंने कहा, हम यहाँ साफ़ तौर पर कहना चाहते है की 14वें दलाई लामा धर्म की आड़ में एक राजनीतिक हस्ती हैं. और उन्होंने हमेशा चीन और तिब्बत को अलग करने के प्रयास किये है.

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के एक कार्यक्रम में यीजॉन्ग ने कहा, ‘हम दलाई लामा से मिलने पर किसी भी व्यक्ति की किसी भी दलील को स्वीकार नहीं करेंगे. जब लामा 1959  मे भागकर हमारे देश से चले गए थे, उन्होंने अपनी मातृभूमि के खिलाफ विद्रोह किया है, हम उस अपराध को कभी नहीं भूल सकते.

COMMENTS