नए साल में किसानों को बड़ा तोहफा, फसलों पर सरकार ज्यादा MSP देने को तैयार

नए साल में किसानों को बड़ा तोहफा, फसलों पर सरकार ज्यादा MSP देने को तैयार

नया साल देश के किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी लेकर आने वाला है. संघ के आर्थिक संगठनों की सरकार के साथ 28 व 29 दिसम्बर को हुई दो दिवसीय समन्वय बैठक में...

कृषि उपज के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर पीएम मोदी का स्पष्टीकरण, किसानों में ख़ुशी की लहर
मोदी ने किसान हित में कही ये बड़ी बात, धरती पुत्रों से की अपील
मोदी सरकार का बड़ा फैसला, अब इलाहाबाद का नाम हो जायेगा प्रयागराज

नया साल देश के किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी लेकर आने वाला है. संघ के आर्थिक संगठनों की सरकार के साथ 28 व 29 दिसम्बर को हुई दो दिवसीय समन्वय बैठक में कृषि उत्पादों का न्यूनतम समर्थन मूल्य की समीक्षा पर सहमती बन गयी है. किसानों को उनकी फसल का उचित दाम प्रदान कराने के लिए बीजेपी सरकार फसल के लागत मूल्य से 50 फीसदी ज्यादा लाभ रखकर कृषि उत्पादों के लिए MSP निर्धारित करने की व्यवस्था लागू कर सकती है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अखिल भारतीय किसान संघ ने बैठक में कृषि उत्पादों के लिए MSP निर्धारित करने की वकालत करते हुए कृषि उत्पादों के लागत मूल्य को आधार मान कर MSP की समीक्षा की मांग की. अखिल भारतीय किसान संघ की इस मांग पर सभी संगठनों ने एक सुर में सहमती जताई और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी इस मांग को तुरंत स्वीकार कर लिया.

न्यूनतम समर्थन मूल्य की समीक्षा का आश्वासन के बाद बीजेपी सरकार द्वारा किये गए अपने वादे को पूरा करने की सम्भावना बढ़ गयी है.बैठक में कहा गया है कि किसी भी सूरत में किसानो के हितों की अनदेखी नहीं की जाएगी. उन्होंने कहा कि कृषि समस्या किसी एक स्टेट की नहीं है बल्कि यह पुरे देश की समस्या है. आपको बताते चलें कि बीजेपी ने लोकसभा चुनावों के घोषणापत्र में किसानों को उनकी फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य लागत मूल्य से 50 प्रतिशत करने का वायदा किया था. इधर पीएम मोदी जी ने 2022 तक किसानों की आय दुगुनी करने का लक्ष्य रखा है इसे देखते हुए ये निर्णय महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

COMMENTS