नवम्बर माह ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, विदेशी निवेश पहुंचा उच्चतम शिखर पर

नवम्बर माह ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, विदेशी निवेश पहुंचा उच्चतम शिखर पर

भारतीय बाजारों से मोहभंग होने के बाद एक बार फिर विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजारों की और रुख किया है. भारतीय निवेशकों और बाजारों के लिए यह खबर राह...

अपने बयान से पलटे राहुल गाँधी, कहा- मैं पीएम बनने का सपना नहीं देखता
नहीं चलेगी स्कूलों की मनमानी, सरकार ने किया नियमों में बड़ा बदलाव
दुनिया के लिए खतरा बने किम जोंग ने फिर दागी मिसाइल, पूरी दुनिया के हर कोने में है इसकी पहुँच

भारतीय बाजारों से मोहभंग होने के बाद एक बार फिर विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजारों की और रुख किया है. भारतीय निवेशकों और बाजारों के लिए यह खबर राहत भरी है. घरेलु शेयर बाज़ार की बात करें तो पिछले महीने में बाहरी निवेशकों ने 19 हज़ार करोड़ रूपए से भी ज्यादा का निवेश किया है. यह पिछले आठ महीनों में सर्वाधिक है.

इसका ख़ास कारण भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में पूंजी डालने की घोषणा और विश्व बैंक की कारोबार सुगमता रैंकिंग में लगातार हो रही भारत की स्थिति में सुधार को माना जा रहा है. इस समयावधि में बाहरी निवेशकों ने भारतीय ऋण बाज़ार में भी 500 करोड़ रूपए से ज्यादा का निवेश किया है.

मार्च के बाद एफपीआई (विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक) ने कुल 19 हज़ार 728 करोड़ रूपए का निवेश किया. डिपॉजिटरी डेटा के अनुसार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों का यह इस वित्त वर्ष का सबसे ज्यादा विदेशी निवेश है. जबकि मार्च में बाहरी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाज़ार में करीब 31 हज़ार करोड़ रूपए का निवेश किया था.

COMMENTS