पिंटो परिवार की गिरफ्तारी पर रोक, सीबीआई ने किया था विरोध

पिंटो परिवार की गिरफ्तारी पर रोक, सीबीआई ने किया था विरोध

गुरुग्राम के प्रद्युम्न हत्याकांड में अभियुक्त बनाए गए रेयान इंटरनेशनल स्कूल के  मालिकों की गिरफ्तारी पर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने 5 दिसंबर तक रो...

चूहों ने की एटीएम में सर्जिकल स्ट्राइक, कुतर दिए लाखों के नोट
मौसम: अगले तीन दिनों तक दिल्ली समेत उत्तर भारत के कई राज्यों में जबरदस्त बारिश के आसार
महज एक डिवाइस बचा सकती है ट्रेन यात्रियों के रोजाना लाखों घंटे, बस रेलवे विभाग की नींद खुल जाये

गुरुग्राम के प्रद्युम्न हत्याकांड में अभियुक्त बनाए गए रेयान इंटरनेशनल स्कूल के  मालिकों की गिरफ्तारी पर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने 5 दिसंबर तक रोक जारी रखी है. हालाँकि सीबीआइ ने गिरफ्तारी पर रोक न लगाने का आग्रह किया, लेकिन हाई कोर्ट के जस्टिस सुरेंद्र गुप्ता की पीठ ने इससे इन्कार कर दिया.

हाई कोर्ट ने रेयान पिंटो, उसके पिता अगस्टाइन एफ पिंटो और मां ग्रेसी पिंटो को जांच में शामिल होने और सहयोग करने के लिए कहा है. इस मामले में अगली सुनवाई 5 दिसंबर को होगी. इस मामले पर बहस के दौरान सीबीआइ ने जवाब दायर कर कहा कि याचिकाकर्ता रयान पिंटो का यह तर्क  गलत है कि वह इस मामले से कहीं भी नहीं जुड़े हैं. सीबीआई ने दावा किया कि रेयान पिंटो उस स्कूल का सीईओ है और इस बात के सीबीआई ने पीठ के समक्ष आवश्यक दस्तावेज भी पेश किये.

सीबीआई का तर्क था कि ऐसे में उनको जमानत दी जाती है तो वह सुबूतों को नष्ट करने में अहम रोल अदा कर सकता है, इसलिए उसकी गिरफ्तारी और पूछताछ जरूरी है. सीबीआइ  ने ये भी कहा कि प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आई है की बच्चे की मौत मैनेजमेंट की लापरवाही के कारण हुई है. सीबीआई को डर था की अगर इनकी गिरफ्तारी नहीं हुई तो ये जांच को प्रभावित कर सकते है.

आपको बता दें कि रेयान स्कूल ग्रुप के सीईओ रेयान पिंटो, उसके पिता संस्थापक अध्यक्ष अगस्टाइन एफ पिंटो और मां प्रबंध निदेशक ग्रेसी पिंटो ने अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी. उन्होंने याचिका में कहा कि वह मुंबई में रहते हैं और उनका काम उच्च स्तर के निर्णय लेने का है. स्कूल स्थानीय प्रबंधन की निगरानी में चलता है, इसलिए उन्हें अभियुक्त बनाया जाना उचित नहीं है. वे जांच में पूरा सहयोग देने को तैयार हैं, लेकिन उन्हें आशंका है कि पूछताछ के दौरान गिरफ्तार किया जा सकता है, इसलिए उन्हें अग्रिम जमानत दी जाए. कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनने के बाद दोनो को नियमित जमानत दे दी, यह दोनों घटना के कुछ दिन बाद से ही पुलिस की गिरफ्त में हैं.

COMMENTS