बजट ने बजाया बाज़ार का बाज़ा, रातों रात कंगाल हुए कारोबारी

बजट ने बजाया बाज़ार का बाज़ा, रातों रात कंगाल हुए कारोबारी

मोदी सरकार के कार्यकाल का अंतिम बजट कल वित्तमंत्री अरुण जेटली ने पेश कर दिया. इस आम बजट ने इस साल के पहले महीने से ही नई ऊँचाइयों को छूने वाले शेयर बा...

Gmail ID की सर्चिंग हिस्ट्री उजागर कर सकती है आपका सारा कच्चा चिट्ठा, संभलकर करें इस्तेमाल
वोडाफोन ने ग्राहक को दिया दुनिया का सबसे छोटा चेक, बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड
Paytm Money लॉन्च, अब मात्र सौ रुपये से कर सकेंगे म्युचुअल फंड में निवेश की शुरुआत

मोदी सरकार के कार्यकाल का अंतिम बजट कल वित्तमंत्री अरुण जेटली ने पेश कर दिया. इस आम बजट ने इस साल के पहले महीने से ही नई ऊँचाइयों को छूने वाले शेयर बाज़ार को दुसरे महीने की शुरुआत में ही औंधे मुंह ‘धड़ाम’ कर दिया. लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स पर टैक्स लगाए जाने के बाद से शेयर बाज़ार में बड़ी तेजी से गिरावट का दौर शुरू हुआ जो निवेशकों के लाखों करोड़ रूपए कुछ ही समय में डकार गया.

LTCG पर टैक्स लगाए जाने से कारोबारियों ने लॉन्ग टर्म के लिए रखे शेयरों को बाज़ार खुलते ही धड़ाधड़ बेचना शुरू कर दिया. शुक्रवार को बोम्बे स्टॉक एक्सचेंज में बड़ी भारी गिरावट देखने को मिली जिसने सभी लिस्टेड कंपनियों के मार्केट शेयर में साढे चार लाख करोड़ का गोता लगवा दिया. इसी वजह से ही छत्तीस हजारी हुआ सेंसक्स अपने उच्चतम स्तर से काफी नीचे लुढ़क कर बंद हुआ. शुक्रवार को सेंसक्स 840 अंकों की भारी गिरावट के साथ 35,066 पर बंद हुआ वहीँ, निफ्टी भी इस साल की भारी गिरावट के साथ 250 अंकों की गिरावट लेकर 10,760 के स्तर पर बंद हुआ. इससे बाज़ार को करेब 5 लाख करोड़ का नुक्सान हुआ है.

गौरतलब है कि इस बजट के नए प्रावधान के मुताबिक सरकार ने लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स पर टैक्स लगाया है जिससे आपको दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ कर और म्यूचुअल फंडों से एक लाख से अधिक आय पर दस फीसदी टैक्स लगाया जायेगा. हालाँकि सरकार ने स्पष्ट किया है कि 31 जनवरी से पहले आपको इससे हुई इनकम पर कोई टैक्स नहीं देना होगा.

COMMENTS