भयंकर बारिश और बाढ़ का तांडव, बिहार हुआ जलमग्न

सी ऍम नितीश ने मांगी वायुसेना की मदद

बाढ़ से बेहाल बिहार में स्तिथि खतरनाक बन गयी है. पिछले चार दिन से हो रही बारिश से अररिया, पूर्णिया और किशनगंज साथ-साथ कटिहार का कुछ हिस्सा बुरी तरह से ...

अब किसानों को फसल बीमा देने में हुई देरी तो बीमा कंपनियों पर होगी कार्रवाई, सरकार का बड़ा फैसला
स्वस्थ रहने के शॉर्टकट टिप्स, जिनके पास समय की कमी है वो इन टिप्स को जरुर फॉलो करें
होली विशेष: आपको विरासत में मिली है इतनी कीमती धरोहर, सुरक्षित तरीके से खेलकर बनायें यादगार

बाढ़ से बेहाल बिहार में स्तिथि खतरनाक बन गयी है. पिछले चार दिन से हो रही बारिश से अररिया, पूर्णिया और किशनगंज साथ-साथ कटिहार का कुछ हिस्सा बुरी तरह से बाढ़ की चपेट में है. इसके अलावा सीमांचल, पूर्वी चम्पारण और पश्चिमी चम्पारण के कुछ इलाके भी बाढ़ में डूबे हुए हैं
लोगों के घरों में पानी घुस चुका है, जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है. हज़ारों लोग घरों में ही फंसे हुए है. SDRF की कई टीमें राहत और बचाव कार्य में जुटी हुई है.
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाढ़ की स्थिति को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह और रक्षामंत्री अरुण जेटली से फोन पर बातचीत कर सेना और वायुसेना की मदद मांगी है. उन्होंने केंद्र सरकार से NDRF की 10 अतिरिक्त टुकड़ियों की मांग है. राहत और बचाव के लिए वायु सेना के हेलिकप्टर की तैनाती का अनुरोध किया है.

आपको बता दें की पिछले 4 दिनों से बिहार में बारिस जोरों पर है अब तक 100 इंच से ज्यादा पानी बरस चुका है. और उत्तरी बिहार की हालात और भी खराब है नेपाल में भरी बारिश भी बाढ़ का एक कारण है.

गंडक नदी के वाल्मीकी नगर बराज से रिकॉर्ड पानी छोड़ा गया है. इलाकों के कई प्रखंडों का जिला मुख्यालयों से संपर्क टूट गया है. बाढ़ की वजह से रेल यातायात भी प्रभावित हुआ है. कई गाड़ियों को रद्द कर दिया है या फिर उसे डायवर्ट कर दिया है. सभी जिले के प्रभारी मंत्रियों को इलाके में तैनात रहने के निर्देश दिए गए हैं.

COMMENTS