महज एक डिवाइस बचा सकती है ट्रेन यात्रियों के रोजाना लाखों घंटे, बस रेलवे विभाग की नींद खुल जाये

महज एक डिवाइस बचा सकती है ट्रेन यात्रियों के रोजाना लाखों घंटे, बस रेलवे विभाग की नींद खुल जाये

हर साल की तरह सर्दियों के मौसम में कोहरे का प्रकोप आमजन के लिए मुसीबतें लेकर आता है. कोहरा, इस मौसम की सबसे कष्टप्रद स्थिति होती है जिसका परिवहन प्रणा...

हर साल स्वाहा होते किसान के सपने, सरकार की दूकान में नहीं है आगजनी की मलहम पट्टी
एक गिलास पानी इतना करामाती होता है ये जानकार आप आज से ही पीना शुरू कर दोगे
खट्टर सरकार की दो टूक- नमाज पढ़ना है तो ईदगाह या मस्जिद जायें, खुले में ना पढ़ें नमाज

हर साल की तरह सर्दियों के मौसम में कोहरे का प्रकोप आमजन के लिए मुसीबतें लेकर आता है. कोहरा, इस मौसम की सबसे कष्टप्रद स्थिति होती है जिसका परिवहन प्रणाली पर भी व्यापक असर पड़ता है. घने कोहरे के दौरान विजिबिलिटी कम हो जाने के कारण दुर्घटनाएं हो जाने की सम्भावना भी बढ़ जाती है. घने कोहरे की मार से ट्रेनों का सफ़र भी प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकता. कोहरे की वजह से दृश्यता कम होने के कारण ड्राइवरों द्वारा सावधानीपूर्वक ट्रेन चलाने के लिए सभी ट्रेनों की गतिशीलता एवं समय में व्यापक बदलाव हो जाता है जिसका खामियाजा आम यात्री को देरी ओर बहुत देरी के रूप में भुगतना पड़ता है

इस हालत से निपटने के लिए रेलवे विभाग को एंटी फोग डिवाइस या ऐसा ही कुछ जो कोहरे की मार से दम तोडती ट्रेनों के लिए प्राणदायक साबित हो, लगाना चाहिए. अभी पिछले कुछ समय पहले ही रेलवे ने एक थर्मल इमेजिंग कैमरे लगाने के प्रोजेक्ट पर विचार किया था जिसका सफल ट्रायल भी हुआ था, लेकिन बताया जा रहा है कि इस प्रोजेक्ट को विभाग ने मात्र इसलिए ठन्डे बस्ते में डाल दिया क्योंकि इस प्रोजेक्ट की लागत यात्रियों की जान से भी ज्यादा थी, विभाग ने इसकी लागत करोड़ों में बताई तथा इसे एक महँगी लागत वाला प्रोजेक्ट बताकर पोस्टपोंड कर दिया.

इस मामले में सरकार को दुसरे देशों जैसे जापान और चीन में इस्तेमाल की जा रही जीपीएस आधारित हाई तकनीक के यंत्रों के प्रयोग पर विचार किया जाना चाहिए. हमारा पडोसी देश चीन ऐसी ही बहुत कम लागत की सुरक्षित तकनीक का प्रयोग कर रहा है. हमें उनसे सीख लेनी चाहिए ताकि इस कोहरे के मार से त्रस्त यात्रियों को राहत मिल सके. रेल में यात्रा करने वालों की भी जान होती है, जो सरकार के करोड़ों से कहीं ज्यादा है. लेकिन विभाग का क्या है करना कुछ होता नहीं ट्रायल जितने मर्ज़ी करवाते रहो इनसे. अगर आम आदमी की सुरक्षित यात्रा को लेकर सरकार और विभाग जागरूक हो जाये तो आज भी रेलवे जैसी सुरक्षित यात्रा का कोई विकल्प नहीं है ऐसा आम आदमी का विश्वास है.

 

 

COMMENTS