यूएन में चीन ने दिया भारत को झटका, दूसरी बार भी मसूद अजहर पर किया वीटो

यूएन में चीन ने दिया भारत को झटका, दूसरी बार भी मसूद अजहर पर किया वीटो

चीन ने आतंकी मसूद अजहर मामले में भारत को फिर से बड़ा झटका दिया है. चीन ने संयुक्त राष्ट्र में पठानकोट आतंकी हमले के सरगना मसूद अजहर को एक वैश्विक आतंक...

चीन मचा सकता है पूर्वोतर में भारी तबाही, अरुणाचल प्रदेश और आसपास के इलाकों में अलर्ट
भारत की जवाबी कार्रवाई से घबराए पाक ने टेके घुटने, फायरिंग रोकने की लगाई गुहार
माँ बाप को मरे हो गया चार साल, अब लिया बेटे ने जन्म

चीन ने आतंकी मसूद अजहर मामले में भारत को फिर से बड़ा झटका दिया है. चीन ने संयुक्त राष्ट्र में पठानकोट आतंकी हमले के सरगना मसूद अजहर को एक वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने की भारत समेत  अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन की एक और कोशिश में अपनी वीटो का यूज कर इस प्रस्ताव को रोक दिया.

यह लगातार दूसरी बार है जब चीन ने भारत के इस कदम को वीटो किया है. पहली बार साल 2016 की मार्च को भारत द्वारा भेजे गए प्रस्ताव को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अल-कायदा प्रतिबंध समिति के सामने भी वीटो किया था. हालाँकि जेईएम पहले से ही संयुक्त राष्ट्र में प्रतिबंधित है, लेकिन अब अजहर पर अलकायदा प्रतिबंध कमेटी के तहत प्रतिबंध लगाने का प्रयास किया जा रहा है.

हालाँकि चीन ने इस कदम को खारिज करने का कारण आमराय नहीं होना बताया है. चीन के विदेश मंत्रालय के मुताबिक यूएनएससी समिति में आम सहमति ना होने की वजह से मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव ख़ारिज कर दिया गया है. इसे एक बार पहले भी बाधित कर दिया गया था और फिर से अगस्त में भी 90 दिन के लिए तकनिकी रोक लगा दी गयी थी.

आपको बता दें की मसूद अजहर पिछले साल के पठानकोट के सैन्य शिविर हमले का प्रमुख साजिशकर्ता है. वह इससे पहले भी भारत में कई बार की आतंकी गतिविधियों में संलिप्त रहा है. भारत का आरोप है की चीन मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकवादी घोषित करना नहीं चाहता है. चीन UNSC के सभी 15 मेम्बर्स के बीच आम सहमती नहीं होने का कारन बताकर और मसूद अजहर के खिलाफ ठोस सबूत ना होने की वजह का हवाला देकर भारत के प्रस्ताव को बार बार ख़ारिज कर रहा है. जबकि चीन ने ब्रिक्स सम्मलेन में मसूद अजहर के संगठन जैश-ए-मोहम्मद का नाम लेने और प्रतिबंध मामलों पर सहमति जताई थी.

COMMENTS