विवाह, पार्टी और नए साल के जश्न को हाईकोर्ट की ‘नज़र’, ‘ऐसे’ जश्न मनाने वालों को जाना पड़ेगा जेल

विवाह, पार्टी और नए साल के जश्न को हाईकोर्ट की ‘नज़र’, ‘ऐसे’ जश्न मनाने वालों को जाना पड़ेगा जेल

वातावरण में दिनोंदिन बढ़ते जा रहे प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए अब हाईकोर्ट ने कमर कस ली है. दीवाली के समय पर पटाखों और आतिशबाजी की बिक्री पर दिल्ल...

हिल गया हरियाणा- हवस के हरामियों ने की हैवानियत की हदें पार – फिर दोहराया ‘निर्भया काण्ड’
भारत बंद: हिंसक हुए दलित आन्दोलन की आग में झुलसे कई राज्य, अब तक 5 की मौत
गुजरात चुनाव से पहले हार्दिक पटेल को बड़ा झटका

वातावरण में दिनोंदिन बढ़ते जा रहे प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए अब हाईकोर्ट ने कमर कस ली है. दीवाली के समय पर पटाखों और आतिशबाजी की बिक्री पर दिल्ली और एनसीआर में रोक के बाद अब पंजाब हरियाणा व पंजाब हाईकोर्ट ने नए साल के जश्न और विवाह शादियों में की जाने वाली आतिशबाजी पर पूरी तरह से रोक लगा दी है. इसके लिए कोर्ट ने सभी जिला अधिकारीयों सहित प्रदूषण बोर्ड को भी निर्देशित किया है कि विवाह, पार्टी और नए साल के जश्न या किसी अन्य कार्यक्रम में पटाखे चलाने पर रोक का आदेश अम्ल में लाया जाये.

कोर्ट ने कहा है कि अगर ऐसा नहीं होता है तो कोर्ट अवमानना का आदेश जारी कर सकता है. फिलहाल यह आदेश एनसीआर में लागू नहीं होगा. कोर्ट ने हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने से हुए प्रदूषण को इसमें शामिल करते हुए आतिशबाजी से प्रदूषण होने को लेकर इसका दायरा बढाने का फैसला लिया है. हरियाणा व पंजाब हाईकोर्ट ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, केंद्रीय पर्यावरण, स्वास्थ्य व कृषि मंत्रालय से इसका जबाब माँगा है.

आपको बताते चलें की अभी दिवाली और गुरुपर्व के अवसर पर भी कोर्ट ने दिल्ली -एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर रोक तथा हरियाणा और पंजाब में पटाखों व आतिशबाजी के लिए केवल तीन घंटे का समय दिया था. जस्टिस एके मित्तल एवं जस्टिस अमित रावल की खंडपीठ ने कहा दीवाली और गुरुपर्व के अवसर पर तीन घंटे ही पटाखे जलाने के आदेश काफी प्रभावी रहे.

 

COMMENTS