सफलता के मन्त्र, अमल कर लिया तो फिर कामयाबी आपके क़दमों में होगी -सफलता के अनमोल सूत्र

सफलता के मन्त्र, अमल कर लिया तो फिर कामयाबी आपके क़दमों में होगी -सफलता के अनमोल सूत्र

ऐसा कभी नहीं हुआ कि कोई असफल हुआ और वो फिर कभी सफल ही ना हुआ हो. कोई भी बड़ा व्यक्ति जिन्दगी में कभी ना कभी असफल जरूर हुआ है, लेकिन अपनी असफलता से हताश...

डोकलाम पर जापान आया भारत के साथ, बौखलाया चीन
अगर आप भी करते हो गाड़ी चलाते समय फ़ोन पर बात तो हो जाएँ सावधान, अब कोर्ट करेगा आपका ‘इलाज’
दिल्ली की दिवाली हुई फीकी, पटाखों की बिक्री पर कोर्ट ने लगाई रोक

ऐसा कभी नहीं हुआ कि कोई असफल हुआ और वो फिर कभी सफल ही ना हुआ हो. कोई भी बड़ा व्यक्ति जिन्दगी में कभी ना कभी असफल जरूर हुआ है, लेकिन अपनी असफलता से हताश होकर बैठने की बजाय इसे एक चेलैंज मानकर दुगुने उत्साह से मेहनत की और दुनिया के सामने सफलता की ऐसी मिसाल कायम की जिसे देखकर दुनिया ने दांतों तले ऊँगली दबा ली. अगर हम असफलता के कारणों को जाने बिना उसी असफलता में उलझे रहे तो निश्चित ही सफलता से दूर होते जायेंगे.

कोई भी कामयाब व्यक्ति जन्म से सफलता लेकर पैदा नहीं हुआ और ना ही सफलता किसी को अनुवांशिक रूप से मिली होती है. जो कामयाब हुए उन्हें कामयाबी पाने के जूनून ने दुनिया में चमकाया और उन्होंने प्रतिकूल परिस्थितियों में भी संघर्ष किया और दुनिया के सामने उदहारण प्रस्तुत किया.

  1. कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में ये ना सोचना कि ये काम मैं क्यूँ कर रहा हूँ, इसमें सफल होने के लिए क्या तैयारी की आवश्यकता है?
  2. किसी भी काम में सफल होने के बारे में सिर्फ सोचना, करना कुछ भी नहीं.
  3. सफलता पाने को इतना उतावला हो जाना कि उसके बारे सिर्फ करने को बेताब हो जाना, सोचना बिलकुल भी नहीं. ऐसे लोग आखिर में अक्सर पछतावा करते है.
  4. कोई लक्ष्य ही निर्धारित ना कर पाना, हमेशा याद रखें कि आपके पास शिवाय कामयाबी के कोई दूसरा ऑप्शन ही नहीं है. अगर पहले से ही ऑप्शन ढूंढने लग जाओगे तो कामयाब नहीं हो पाओगे.
  5. कुछ लोग ना तो काम से पहले ही सोचते हैं ना ही बाद में सोच पाते है.
  6. असफलता के बाद में हताश होकर उस पर समीक्षा करने की बजाय परिस्थितियों को जिम्मेदार ठहराकर रास्ता बदल लेना.
  7. किसी काम को करने से पहले उसके बारे में पूरी जांच-पड़ताल करने की बजाय सफलता के लिए निश्चिन्त हो जाना.

क्या आपकी मंजिल केवल सफलता है? नहीं, आपको तो केवल बढ़ते चले जाना है हार-जीत केवल जिन्दगी के पड़ाव है. हार या जीत कभी आखरी मंजिल नहीं होती उनके लिए जिन्हें कुछ करने का जूनून होता है. सफलता उनके क़दमों में पड़ी होती है जिनकी मंजिल केवल सफलता नहीं होती. हमेशा याद रखिये आप जिस जॉब को अपनी मंजिल समझ रहे हैं उसे कोई दूसरा छोड़कर, उससे भी बड़ी मजिंल की तलाश में संघर्ष कर रहा है.

 

COMMENTS