सौ करोड़ की प्रोपर्टी छोड़कर संत बनने जा रहे दम्पति के मामले में आया नया मोड़

सौ करोड़ की प्रोपर्टी छोड़कर संत बनने जा रहे दम्पति के मामले में आया नया मोड़

नीमच के सेठ नाहरसिंह राठौर के पुत्र और पुत्रवधु के हर महीने की लाखों की कमाई और परिवार की करीब 100 करोड़ की संपति छोड़कर संन्यास लेने के मामले में एक नय...

हरियाणा की बेटी ने पहना मिस वर्ल्ड का ताज, 17 साल बाद आया देश की झोली में ये ख़िताब
आपके आधार कार्ड का प्रयोग किसने और कहाँ किया है, ऐसे जानिए चुटकियों में
रोचक घटना: जब भारत-पाकिस्तान के बीच एक ‘आम’ की वजह से उपजा विवाद

नीमच के सेठ नाहरसिंह राठौर के पुत्र और पुत्रवधु के हर महीने की लाखों की कमाई और परिवार की करीब 100 करोड़ की संपति छोड़कर संन्यास लेने के मामले में एक नया मोड़ आ गया है. सांसारिक मोह माया छोड़कर संत बनने की राह पर निकले इस दंपति के सामने उनकी पौने तीन साल की बेटी के लालन-पालन को लेकर इस निर्णय का विरोध शुरू हो गया है.

इस बाबत एक सामाजिक कार्यकर्ता कपिल शुक्ला ने रोकने के लिए आवेदन दिया है. कपिल ने उनके इस निर्णय को रोकने के लिए मानवाधिकार आयोग, सीएम हेल्प लाइन, चाइल्ड केयर, कलेक्टर और एसपी को एक आवेदन दिया है. कपिल के मुताबिक जोड़े की दीक्षा रुकवाने का मकसद उनके किसी काम का विरोध करना नहीं है, परन्तु संन्यास लेने के बाद बच्ची का क्या होगा. वो अपनी जिम्मेदारी से मुंह नहीं मोड़ सकते न ही बच्ची के लालन पालन के अधिकार को छीन सकते. कपिल के इस कदम के साथ उन्हें लोगों का सहयोग भी मिल रहा है.

आपको बता दें कि नीमच शहर के रहने वाले राठौर परिवार के रहने वाले सुमित और उसकी पत्नी अनामिका ने 100 करोड़ से ज्यादा की प्रॉपर्टी और हर महीने लाखों की कमाई छोड़कर पति-पत्नी ने संन्यास धारण करने का फैसला लिया है वे साधुमार्गी जैन आचार्य रामलाल महाराज के सानिध्य में यह दीक्षा लेने वाले है.

चार साल पहले शादी के बंधन में बंधने वाले सुमित और उसकी पत्नी अनामिका के एक 2 साल 10 महीने की बेटी इभ्या भी है. दोनों परिवारों के विरोध और काफी मान मनोव्वल के बाद भी दोनों अपने निर्णय पर अटल है. नीमच में बड़े बिजनेस घराने के इस परिवार की 100 करोड़ से भी अधिक की प्रॉपर्टी है. सुमित-अनामिका के राजसी वैभव का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इनके दादा नाहरसिंह का कैंट में 1.25 लाख वर्गफीट में अंग्रेजों का बनाया हुआ बड़ा कमर्शियल कैम्पस है. नीमच सिटी में बंगला है, और इसके साथ ही सीमेंट कट्टों की फैक्टरी के साथ कृषि, फाइनेंस आदि का कारोबार है, लेकिन वे इसे तिलांजलि देकर दीक्षा ले रहे हैं.

COMMENTS