हार्दिक ने फोड़ा हार का ठीकरा EVM के सिर, बीजेपी को दी आन्दोलन की चेतावनी

हार्दिक ने फोड़ा हार का ठीकरा EVM के सिर, बीजेपी को दी आन्दोलन की चेतावनी

गुजरात और हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस को मिली करारी शिकस्त के बाद एक ओर जहाँ राहुल गाँधी ने हार को जनता जनार्दन का फैसला मानकर स्वीकार कर ली है वहीँ दू...

बीजेपी का विरोध हार्दिक पटेल को पड़ा महंगा, अब कांग्रेस दे सकती है बड़ा झटका
हार्दिक पटेल के साथियों का आरोप- बीजेपी ने हार्दिक की CD 40 करोड़ में तैयार करवाई
गुजरात चुनाव से पहले हार्दिक पटेल को बड़ा झटका

गुजरात और हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस को मिली करारी शिकस्त के बाद एक ओर जहाँ राहुल गाँधी ने हार को जनता जनार्दन का फैसला मानकर स्वीकार कर ली है वहीँ दूसरी ओर ये हार पार्टी के कुछ कद्दावर नेताओं के गले नहीं उतर रही है. कोई इसे बीजेपी के पैसों से जीतने की बात कह रहा है तो कोई इस हार का ठीकरा EVM के सिर फोड़ने पर उतारू है. इसी के चलते पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल ने बौखलाहट में चुनाव आयोग से लेकर EVM और बीजेपी पर धड़ाधड़ आरोपों की झड़ी लगा दी.

हार्दिक पटेल ने प्रेस कांफ्रेंस करके कहा की बीजेपी की जीत पैसे और ईवीएम के दम पर हुई है. ये कोई चाणक्य की रणनीति नहीं है, राज्य में बीजेपी सिर्फ पैसे और ईवीएम के कारण जीती है. कुछ सीटों पर तो बीजेपी की मात्र 200 वोटों से भी कम अंतर से जीत हुई है. उन्हने आगे कहा की मेरा बीजेपी को दिल से अभिनन्दन नहीं है. अगर ईमानदारी से चुनाव हुआ होता तो बीजेपी की हार होती.

हार्दिक ने विपक्ष से भी अपील करते हुए कहा कि, “विपक्ष को को ईवीएम के खिलाफ एक होना चाहिए. 12-13 सीटों पर वोटों पर हार-जीत का अंतर काफी कम रहा, मैं पिछले तीन दिनों से इन सीटों को लेकर सवाल खड़े करता रहा हूं. मैं अभी भी मानता हूं कि कांग्रेस 100-102 सीट जीती है. ईवीएम के खिलाफ हमारी जंग जारी रहेगी. किसी को लग सकता है कि यह हरीशचंद्र की मुहर लगी हो. हम ऐसा

नहीं कहते. हमारा देश लोकतांत्रिक है, ईवीएम सिर्फ भविष्य तय करता है. सूरत में एक लाख पटेल समुदाय का वोट है, इतना सारा क्राउड सभा में होने के बाद ये कैसा हुआ. हमें एकजुट होकर ईवीएम के खिलाफ मोर्चा खोलना चाहिए.”

हार्दिक ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा की पैसों के जोर और घटिया सोच की वजह से बीजेपी ने पूरा प्लान किया है. मानसा, कामरेज, वराछ और विसनगर के कई evm बिना सील के खुले मिले. राहुल गाँधी के साथ संबंधों के बारे में सवाल करने पर उन्होंने कहा की ढाई साल बाद ही इस बारे में सोचा जायेगा, अब तो एक बार गावों में घुमुंगा. अभी मैं किसी भी पार्टी से जुडा हुआ नहीं हूँ, हमारा आन्दोलन जारी रहेगा. हम 25 दिसम्बर से फिर से आन्दोलन करेंगे और उस आंदोलन आगे और तेज करेंगे.

COMMENTS