अकल्पनीय घटना: दादा ने चुराई पोते ने लौटाई, अजब चोरी की गजब कहानी

अकल्पनीय घटना: दादा ने चुराई पोते ने लौटाई, अजब चोरी की गजब कहानी

वाह! चोर हो तो ऐसा वरना ना हो

अभी हाल ही में गुजरात के बनासकांठा में एक अनोखा वाकया हुआ. गुजरात के बनासकांठा के चालवा गांव में लोगों ने देखा की उनके गाँव के ही एक सोनी परिवार के लो...

पद्मावती के विरोधिओं को बड़ी धमकी, नाहरगढ़ किले पर लटकाई लाश, कहा हम पुतले नहीं जलाते
कुछ बच्चे तो इतने क्यूट होते हैं की उन्हें देखने के बाद…ऐसे ही मस्तीभरे जोक्स के लिए क्लिक करें
SBI खाताधारकों के लिए खुशखबरी, बदल गया कैश जमा करवाने का ये नियम

अभी हाल ही में गुजरात के बनासकांठा में एक अनोखा वाकया हुआ. गुजरात के बनासकांठा के चालवा गांव में लोगों ने देखा की उनके गाँव के ही एक सोनी परिवार के लोग नाच गा रहे हैं, ढोल बज रहे है और मिठाइयां बांटी जा रही है. पड़ोसियों के अनुसार अजूबे की बात ये थी की अभी उस घर में किसी की शादी और बच्चे के जन्म की कोई सम्भावना वाली बात नहीं थी. लेकिन जैसे ही लोगों को मामला पता चला तो वो लोग भी उनकी ख़ुशी में शामिल हो गए.jeep

बात दरअसल ये थी की बनासकांठा जिले के लाखणी तहसील के चालवा गांव में रहने वाले सुरेश सोनी की जीप 1985-1986 में घर की पार्किंग से ही रात को चोरी हो गई थी. पुलिस पड़ताल के साथ ही खुद भी जीप को ढूंढने के बहुत प्रयास किये थे क्योंकि इस जीप के साथ घर के मुखिया के पिता की यादें जुड़ी हुई थी. जीप वापस आने की आस के साथ गांव के एक मंदिर की मन्नत रखी थी और जीप को ढूंढने के काफी कोशिश की थी लेकिन जीप मिली नहीं थी. जब गाड़ी नहीं मिली तो वे मन मसोसकर रह गए. लेकिन अब गाड़ी चोरी करने वाले व्यक्ति के पोते ने जीप वापस लौटाई है.

काफी मशक्कत के बाद भी जब गाड़ी नहीं मिली तो परिवार ने मान लिया था कि अब यह कभी भी दोबारा नहीं मिलेगी. लेकिन 35 साल बाद एक शख्‍स सोनी परिवार के घर पर आया और बोला आपकी 35 साल पहले गाड़ी चोरी हो गई थी, वह लौटाने आया हूं.

शख्स के दादा ने वह गाड़ी चुराई थी लेकिन अब इस शख्स ने घर में सुख शांति बनी रहे और पराई चीजें पत्थर के समान होती हैं ऐसा मानकर अपने दादा के द्वारा चोरी की गई जीप को उसके मालिक सुरेश भाई को उनके गांव चालवा जाकर लौटाई. कई सालों बाद जीप चालवा गांव में वापस आने की वजह से काफी लोग उसे देखने आए थे.jeep

फिर क्या था सोनी परिवार ने इस अप्रत्याशित खुशी के बाद जीप का स्वागत करने का निर्णय किया और ढ़ोल बाजों के साथ नाच-गाकर ख़ुशी मनाई और मिठाई बांटकर लोगों को भी ढ़ोल की थाप पर थिरकने को मजबूर कर दिया. क्या बच्चे, क्या जवान, और क्या बूढ़े और क्या महिलाएं सबके सब इस खुशी में नाच रहे हैं. जीप जब वापस अपने मालिक के घर पहुंची तो वहां महिलाओं ने जीप को तिलक लगाया और पूजा की जिसके बाद जीप पर फूल भी बरसाए गए.

जीप के असली मालिक सोनी परिवार ने जीप की चोरी करने वाले को चाय-नाश्ता देकर और मुंह मीठा करवाया और किसी भी प्रकार की रंजिश रखे बिना जीप लेकर आने वाले दंपति को सम्मान के साथ वापस विदा भी किया. जीप लौटाने के बाद चोर का परिवार भी खुश है और 35 साल बाद अपनी जीप वापस पाने की वजह से सोनी परिवार भी खुश है.