MahaShivratri 2019: सोमवार को है महाशिवरात्रि, जानिये इस बार क्यों बहुत ख़ास है ये दिन

MahaShivratri 2019: सोमवार को है महाशिवरात्रि, जानिये इस बार क्यों बहुत ख़ास है ये दिन

यूँ तो साल में बारह शिवरात्रि होती है जो प्रत्येक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को होती है. उन्हें मास शिवरात्रि कहा जाता है परन्तु फागुन माह में...

सावन में ऐसे करें भोलेनाथ को प्रसन्न, सम्पूर्ण व्रत विधि एवं मुहूर्त
जानिए पुराणों ने अनुसार महाशिवरात्रि व्रत की कथा और पूजन का शुभ मुहूर्त
जानिए क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि, इसका महत्व और व्रत के नियम

यूँ तो साल में बारह शिवरात्रि होती है जो प्रत्येक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को होती है. उन्हें मास शिवरात्रि कहा जाता है परन्तु फागुन माह में आने वाली शिवरात्रि का विशेष महत्व होता है जिसे महाशिवरात्रि कहा जाता है. इस साल की महाशिवरात्रि फागुन माह की चतुर्दशी तिथि को है जो अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 4 मार्च (सोमवार) को पड़ रही है. महाशिवरात्रि भारत के प्रमुख त्यौहारों में से एक है जो बड़े ही हर्षोल्लास से मनाई जाती है. यह देवाधिदेव महादेव को समर्पित त्यौहार है. इस दिन भगवान शिव की पूजा का विधान है.Maha Shivratri 2019

हर बार की तरह भक्तों ने इस बार भी इस त्यौहार को मनाने के लिए विशेष तैयारियां शुरू कर दी है. शिव मंदिरों में पंडाल लगाए जा रहे हैं, बेल पत्थरों और भांग से बाज़ार सज चुके हैं. वहीं, प्रयागराज में चल रहे कुंभ में भी इस दिन होने वाले आखिरी शाही स्नान के लिए भक्तों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई है.

इस बार महाशिवरात्रि सोमवार के दिन है, जिसकी वजह से यह और भी ख़ास मानी जा रही है. आपको बता दें की सोमवार को भगवान शिव का त्यौहार माना जाता है क्योंकि इसका संबंध उनके सिर पर विराजमान चंद्रमा से है, इसी वजह से उन्हें सोमनाथ भी कहते हैं.Maha Shivratri 2019

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन से ही इस जगत का प्रारम्भ हुआ था. कहा जाता है की इसी दिन भगवान शिव का विवाह माता पार्वती के साथ हुआ था. इसी वजह से भारत में कई जगहों पर भगवान शिव और माता पार्वती के इस विवाह की तैयारियां तीन से चार दिन पहले ही शुरू हो जाती हैं. उनकी प्रतिमाओं को हर घर में घुमाया जाता है. 4 मार्च को पड़ने वाली महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त शाम 04:28 बजे से शुरू होकर 5 मार्च को सुबह 07:07 तक रहेगा.