आज की दिनांक से जुड़ा है हमारे देश के संविधान का बड़ा राज, जानिए क्या है इसका रहस्य

आज की दिनांक से जुड़ा है हमारे देश के संविधान का बड़ा राज, जानिए क्या है इसका रहस्य

सविधान के निर्माण को ध्यान में रखते हुए संविधान सभा द्वारा कुछ समितियों को बनाया गया था. 29 AUG 1948 को समितियों की रिपोर्ट को क्रमानुसार करने के उदेश...

नहीं रहे पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस, हिन्दू रीति-रिवाज से होगा अंतिम संस्कार
धरण पड़ने अथवा नाभि खिसकने की समस्या, कारण और देशी कारगर उपचार
Paytm से Aadhar कार्ड को डी-लिंक करवाना है तो रखें ये सावधानियां, वरना पड़ेगा पछताना

सविधान के निर्माण को ध्यान में रखते हुए संविधान सभा द्वारा कुछ समितियों को बनाया गया था. 29 AUG 1948 को समितियों की रिपोर्ट को क्रमानुसार करने के उदेश्य से प्रारूप समिति की स्थापना की गई. डॉ. भीमराव अम्बेडकर समिति के अध्यक्ष बनाए गए जिसमें अध्यक्ष सहित कुल सात (भीमराव अम्बेडकर, के एम् मुंशी, गोपाल स्वामी आयंगर, बी एल मितल, टी टी कृष्णमाचारी, अल्लादी कृष्णास्वामी, सैय्यद मुहम्मद सादुला) सदस्य थे.2/11/18

प्रारूप समिति ने 21 FEB 1948 को संविधान का प्रारूप तैयार कर लिया था. जिसमें 395 धाराएं और अनुसूचियां रखी गई थी. सविधान सभा के अध्यक्ष डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने 26 NOV 1949 को सभा के अध्यक्ष के फलस्वरूप इस पर अपने हस्ताक्षर किए. 24 JAN 1950 को सविधान सभा का अंतिम अधिवेशन शुरू हुआ और समिति के अन्य सदस्यों ने अपने हस्ताक्षर किये. लेकिन सविधान को 26 JAN 1950 को किया गया था.2/11/18

आज की दिनांक 2/11/18 अर्थात् भारत के संविधान निर्माण में कुल समय 2 वर्ष 11 महीने और 18 दिन लगे थे (2/11/18) . इसके लिए कुल 11 अधिवेशन हुए थे. 15 AUG 1945 से पहले सविधान सभा स्वंतत्र संस्था नही थीं, वो भारत स्वंत्रता के पश्चात एक प्रभुता संपन्न संस्था बनी और भारत को संविधान द्वारा प्रजातांत्रिक गणराज्य के रूप में स्थापित किया.

COMMENTS