अब बाज़ार में नज़र नहीं आएगी नकली दवाएं, सरकार ने ‘ट्रेस एंड ट्रैक’ सिस्टम को दी मंजूरी

अब बाज़ार में नज़र नहीं आएगी नकली दवाएं, सरकार ने ‘ट्रेस एंड ट्रैक’ सिस्टम को दी मंजूरी

बाज़ार में आजकल नकली दवाओं का बोलबाला है, अधिकतर दवाओं के नकली होने का आम उपभोक्ता को जरा सा भी आभास नहीं होता की जिस दवा को उसने असली समझकर खरीदा है व...

अब माँ वैष्णो देवी की यात्रा पर जा सकेंगे सिर्फ 50,000 भक्तजन, NGT ने रोका निर्माण कार्य
बीजेपी का विरोध हार्दिक पटेल को पड़ा महंगा, अब कांग्रेस दे सकती है बड़ा झटका
अपनों ने ही किया हरियाणवी डांसर और रागिनी गायिका हर्षिता दाहिया का क़त्ल

बाज़ार में आजकल नकली दवाओं का बोलबाला है, अधिकतर दवाओं के नकली होने का आम उपभोक्ता को जरा सा भी आभास नहीं होता की जिस दवा को उसने असली समझकर खरीदा है वो असल में असली है की नहीं. लेकिन सरकार ने अब नकली दवाओं के कारोबार के खिलाफ कड़े कदम उठाने का निर्णय लिया है ताकि जरूरतमंद को उच्च गुणवत्ता वाली दवाएं मिल सके और नकली दवाओं की वजह से उनके स्वास्थ्य से खिलवाड़ ना हो.

राम रहीम को सज़ा सुनाने वाले जज ने दिया एक ओर बड़ा फैसला, ‘अपना घर’ मामले में 3 को उम्रकैद

ड्रग्स टेक्निकल अडवाइजरी बोर्ड (DTAB) के अधिकारीयों के अनुसार अभी हाल ही में एक बैठक में ‘ट्रेस एंड ट्रैक’ सिस्टम लागू करने प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है. अब इस सिस्टम के तहत दवा बनाने वाली कंपनियां अपनी सबसे अधिक बिकने वाली दवाओं पर एक विशेष प्रकार का यूनीक कोड प्रिंट करेंगी. इसके साथ ही कंपनी अपने अन्य प्रोडक्ट्स पर भी यूनीक कोड प्रिंट करेंगी. इस यूनीक कोड में 14 अंकों का एक नंबर लिखा होगा जिसके जरिये दवा के असली या नकली होने का आसानी से पता किया जा सकेगा.

सनसनीखेज खबर: बर्बादी की कगार पर पाकिस्तान, दो महीनों में खाली हो जायेगा खज़ाना

सरकार की इस पहल से बाज़ार में बिक रही नकली दवाओं के कारोबार को रोकने में मदद मिलेगी. इस बारे में कई कंपनियों से साथ प्रमुख एसोसिएशन की सरकार से बातचीत पहले ही चल रही थी. दवा के लेबल पर लिखे यूनीक कोड को लेबल पर साथ ही लिखे गए मोबाइल नंबर पर मैसेज करने से तुरंत रिप्लाई आएगा जिस पर दवा बनाने वाली कंपनी का नाम और पता, बैच नंबर से लेकर मैन्युफैक्चरिंग और एक्सपायरी डेट जैसी तमाम आवश्यक जानकारी मिल जाएगी. फिलहाल इस सिस्टम के लिए 300 दवाओं का चुनाव किया जाना है और उनकी लिस्ट बनाने का काम किया जा रहा है.

दुनिया के टॉप 10 अमीर देशों की सूची में शामिल हुआ भारत, जानिए भारत से कौन रहा पीछे और कौन है आगे