अब चोरी हुआ मोबाइल मिल जायेगा चुटकियों में, सरकार ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

अब चोरी हुआ मोबाइल मिल जायेगा चुटकियों में, सरकार ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

आज के समय में मोबाइल का गुम हो जाना या चोरी हो जाना एक बहुत बड़ी समस्या है. मोबाइल के खो जाने की स्थिति में अपने डाटा, कॉन्टेक्ट्स की रिकवरी या फिर मोब...

स्मार्टफोन के इतिहास में दुनिया का सबसे बड़ा कारनामा, जल्द आ रहा है हवा में उड़ने वाला ड्रोन फ़ोन
मोदी सरकार का तोहफा: अब बिना गारंटी केवल 59 मिनट में मिलेगा 1 करोड़ तक का लोन
ड्रग तस्कर हीरोइन ममता कुलकर्णी पर कोर्ट की सख्ती, सम्पति जब्त करने का आदेश

आज के समय में मोबाइल का गुम हो जाना या चोरी हो जाना एक बहुत बड़ी समस्या है. मोबाइल के खो जाने की स्थिति में अपने डाटा, कॉन्टेक्ट्स की रिकवरी या फिर मोबाइल को ट्रेस कर पाना हर किसी के बस की बात नहीं है. अधिकतर केस में मोबाइल वापस मिल पाना नामुमकिन ही होता है. लेकिन अब सरकार ने एक सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेंटिटी रजिस्टर तैयार किया है जिससे आईएमईआई नंबर और मोबाइल से जुड़ी अन्य सभी जानकारी भी पता चल जाएगी.

आपका गुम या चोरी हुआ मोबाइल में आपके शिकायत करते ही कोई नेटवर्क नहीं चलेगा और पुलिस आपके मोबाइल तक पहुँच जाएगी. अगले कुछ हफ़्तों में दूरसंचार विभाग इसे महाराष्ट्र सर्किल में बतौर ट्रायल शुरू करने जा रहा है. उम्मीद की जा रही हैकी दिसम्बर तक इसे देश के बाकी हिस्सों में भी लागू किया जा सकता है. इसके लिए सरकार ने एक हेल्पलाइन नंबर 14422भी जारी किया है. इस नंबर पर कॉल करके गुम हुए या चोरी हुए मोबाइल की शिकायत की जा सकती है.

टेलिकॉम विभाग ने गुम हुए या चोरी हुए मोबाइल को ट्रेस करने के लिए एक मैकेनिज्म तैयार किया है. इसे सेंट्रल इक्विपमेंट आईडेंटिटी रजिस्टर (सीईआईआर) नाम दिया गया है. जिसमें देश के हर नागरिक का मोबाइल मॉडल, सिम नंबर और आईएमईआई नंबर दर्ज़ किया हुआ होता है.

यह भी पढ़ें: अब मोबाइल का फ्लाइट मोड हो जायेगा बेकार की चीज़, फ्लाइट में यूज़ कर सकेंगे मोबाइल और वाई-फाई

सरकार की तरफ से जारी हेल्पलाइन नंबर पर SMS या कॉल करके शिकायत की जा सकेगी. बताया जा रहा है की दूरसंचार मन्त्रालय मई के अंत तक महाराष्ट्र सर्किल में इसकी शुरुआत कर देगा. जबकि देश के अन्य 21 सर्किल्स में भी इसी साल के अंत तक विभाग इस योजना को लागू कर देगा. सी-डॉट के अनुसार शिकायत के बाद मोबाइल में कोई भी सिम डालने पर भी नेटवर्क नहीं आएगा और उसकी ट्रैकिंग भी होती रहेगी. शिकायत दर्ज़ होने के बाद पुलिस और सर्विस प्रोवाइडर कंपनी मोबाइल मॉडल और आईएमईआई का मिलान करेंगी. अगर मोबाइल का आईएमईआई नंबर भी बदल दिया जायेगा तो भी उसे सर्विस प्रोवाइडर द्वारा बंद कर दिया जायेगा. हालांकि, सर्विस बंद होने के बाद भी पुलिस मोबाइल ट्रैक कर सकेगी.

यह भी पढ़ें: रिकॉर्ड: सात दिनों तक सात-सात घंटे चली सुनवाई, 23 दिन में फैसला, दोषी को फांसी

COMMENTS