अगर आपके मोबाइल में ये लक्षण नज़र आयें तो हो जाएँ सावधान, हो सकता है ब्लास्ट

अगर आपके मोबाइल में ये लक्षण नज़र आयें तो हो जाएँ सावधान, हो सकता है ब्लास्ट

आजकल स्मार्टफोन में ब्लास्ट की घटनाएँ कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है. मोबाइल का फटना जानलेवा भी हो सकता है. मोबाइल फोन फटने के पीछे कई कारण हो सकते हैं लेकिन ...

एयर इंडिया में बड़ा हादसा, विमान से गिरी एयर होस्टेस- हालत नाजुक
सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर CJI पर लगाये गंभीर आरोप, मच गया हडकंप
अगर आप भी करते हो गाड़ी चलाते समय फ़ोन पर बात तो हो जाएँ सावधान, अब कोर्ट करेगा आपका ‘इलाज’

आजकल स्मार्टफोन में ब्लास्ट की घटनाएँ कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है. मोबाइल का फटना जानलेवा भी हो सकता है. मोबाइल फोन फटने के पीछे कई कारण हो सकते हैं लेकिन आज हम आपको मोबाइल ब्लास्ट के कारणों के बारे में बताने जा रहें हैं जिन्हें आपके लिए जानना जरूरी है कि आखिर ब्लास्ट होता क्यों हैं?

मोबाइल गर्म होना

मोबाइल ब्लास्ट होने का सबसे पहला और बड़ा कारण है मोबाइल का जरुरत से अधिक गर्म होना. जी हाँ! सही पढ़ा आपने, मोबाइल ब्लास्ट का सबसे बड़ा कारण इसका गर्म होना ही है. अगर आपका मोबाइल हद तक गर्म होता है तो उसे तुरंत सर्विस सेंटर लेकर जाएँ या फिर किसी अच्छे मैकेनिक को दिखाएँ. बार-बार गर्म होने वाले मोबाइल में और बहुत अधिक गर्म होने वाले मोबाइल में फटने की संभावनाएं अधिक हो जाती है.

अपने बेटे को पढ़ाई का महत्व समझाने के लिए दिखाएँ ये तस्वीरें, कसम से जी लगाकर पढ़ेगा

बैटरी का फूलना

मोबाइल ब्लास्ट का दूसरा बड़ा कारण है मोबाइल की बैटरी का फूलना. अगर आपके मोबाइल की बैटरी फूल गई है या फिर मोबाइल के बैक पैनल पर आपको उभार नज़र आ रहा हो तो आप सावधान हो जाएँ. इस स्थिति में बैटरी के फटने की संभावनाएं अधिक हो जाती है. और हाँ, अगर आपके मोबाइल की बैटरी रिमूवेबल अर्थात निकाली जा सकने वाली है तो उसके फूलने की स्थिति में उसे मोबाइल से बाहर निकाल कर कहीं दूर खुली जगह पर रख दें, और भूलकर भी उसे पिचकाने की या दबाने की कोशिश ना करें, ऐसा करना खतरनाक हो सकता है.

गलत चार्जर का उपयोग

वैसे तो सभी मोबाइल्स के मॉडल्स के लिए कंपनियों ने अलग और स्पेशल चार्जर बनाये हुए होते है और कंपनी द्वारा दिया गया चार्जर ही मोबाइल को चार्जिंग करने हेतु उपयोग में लिया जाना चाहिए. लेकिन अगर कभी दूसरा चार्जर उपयोग में लेना ही पड़ जाये तो उसी कम्पनी का चार्जर ही उपयोग करें जिस कंपनी का आपका मोबाइल है. क्योंकि सभी मोबाइल्स के लिए अलग-अलग वोल्टेज और अम्पीयर के चार्जर बने होते हैं जो दूसरी किसी कंपनी के कम वोल्टेज कैपिसिटी के मोबाइल को खराब कर सकते है. आजकल लोग मोबाइल को जल्दी चार्जिंग करने के चक्कर में हाई-वोल्टेज और अम्पीयर के चार्जर इस्तेमाल करते हैं जो की कई बार मोबाइल ब्लास्ट का कारण भी बन जाता है.

मांगे नहीं मानने से नाराज हरियाणा के 100 दलितों ने किया धर्म परिवर्तन, जानिए क्या है मामला

चार्जिंग के लिए गलत जगह का चुनाव

अपने मोबाइल को जब भी चार्जिंग पर लगायें तो हमेशा ध्यान रखें की ऐसी जगह पर ही लगाया जाये जहाँ तापमान सामान्य हो या सामान्य से भी कम हो. हमेशा खुली जगह पर ही मोबाइल को चार्जिंग पर लगायें. किसी उपयोग में लिए जा रहे इलेक्ट्रिक उपकरण के ऊपर मोबाइल को चार्ज कभी ना लगायें, जैसे फ्रीज और टेलीविज़न इत्यादि. इसके अलावा सबसे महत्वपूर्ण बात ये है की मोबाइल को चार्जिंग के दौरान उपयोग ना करें.

बार बार गिरना

मोबाइल फ़ोन में कई बार गिरने की वजह से भी विस्फोट हो जाता है, अत: हमेशा ध्यान रखें की मोबाइल को बार-बार गिरने ना दिया जाये और जब कभी गिर भी जाये तो उठाते समय स्क्रीन वाली साइड ऊपर की तरफ रखें. कई बार मोबाइल गिरने की वजह से बैटरी डैमेज होती है और उसके बाद उसमें आग लग सकती है.

मोदी सरकार की ‘धन धना धन’ योजना, कीजिये सिर्फ ये काम और ले जाईये एक करोड़ से पांच करोड़ तक नकद

अधिक समय तक चार्जिंग पर लगाना

मोबाइल फ़ोन को कभी भी रात भर के लिए चार्जिंग पर लगाकर ना छोड़ें. हालाँकि मोबाइल की चार्जिंग आईसी में ऑटोकट का सिस्टम होता है लेकिन जब भी लाइट चली जाती है और फिर जब वापिस आती है तो एक बार फिर से मोबाइल की चार्जिंग शुरू हो जाती जिससे बार बार चार्जिंग ऑन-ऑफ होती रहती है तो ऐसे में चार्जिंग आईसी के ख़राब होने का डर और ब्लास्ट की संभावनाएं अधिक हो जाती है.