टल सकता था अमृतसर ट्रेन हादसा, अगर ना होती ये पांच बड़ी गलतियां

टल सकता था अमृतसर ट्रेन हादसा, अगर ना होती ये पांच बड़ी गलतियां

अमृतसर ट्रेन हादसा: शुक्रवार को पंजाब के अमृतसर में दिल दहलाने वाला हादसा हुआ. रेलवे ट्रैक पर खड़े होकर रावन दहन देख रहे लोगों को तेज रफ़्तार रेल रौंद...

सलमान खान के परिवार पर लगा एक और कलंक, अरबाज़ खान का नाम इस रैकेट से जुड़ा
बिल्‍डर के लड़के की दरियादिली,फ्रेंडशिप डे मनाने के लिए छात्र ने गरीब दोस्तों में बाँट दिए 46 लाख रूपए
आज है इन चार राज्यों में भारी बारिश का खतरा, राहत और बचाव टीमों को अलर्ट रहने के आदेश

अमृतसर ट्रेन हादसा: शुक्रवार को पंजाब के अमृतसर में दिल दहलाने वाला हादसा हुआ. रेलवे ट्रैक पर खड़े होकर रावन दहन देख रहे लोगों को तेज रफ़्तार रेल रौंदते हुए निकल गई. इस हादसे में 61 लोग काल के गाल में समा गए. हादसे के बाद हर कोई सदमे में है. इस तमाम घटनाक्रम के बाद सरकार, पब्लिक और विपक्ष की तरफ से आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. घटना की जिम्मेदारी कोई भी लेने को तैयार नहीं है.अमृतसर ट्रेन हादसा

रेल विशेषज्ञों के अनुसार अगर ट्रेन ऑपरेशन मैन्युअल का पालन क्या गया होता तो ये हादसा टल सकता था. इस हादसे में लोको पायलट की जिम्मेदारी को भी नकारा नहीं जा सकता. इसके अलावा इतनी भीड़ की जान बचाने में गेटमेन की भूमिका भी अहम थी. विशेषज्ञों का कहना है कि जिस रेलवे क्रॉसिंग के पास यह हादसा हुआ, वहां दशहरे का मेला 6 साल से लग रहा है। इसकी जानकारी रेलवे के स्थानीय प्रशासन, स्टेशन मास्टर, गेटमैन और वहां से गुजरने वाली ट्रेन ड्राइवरों को अवश्य होगी.अमृतसर ट्रेन हादसा

विशेषज्ञों का कहना है कि गेटमैन को इसकी जानकारी थी कि मेले में आए लोग ट्रैक पर खड़े होकर वीडियो बना रहे हैं. इसके बावजूद भी उसने मैग्नेटो फोन से स्टेशन मास्टर को इसकी जानकारी नहीं दी. IRLO के संयोजक संजय ने बताया की इस हादसे में अमृतसर-हावड़ा एक्सप्रेस और जालंधर-अमृतसर लोकल ट्रेन के ड्राइवरों के पूरी गलती है. जब ड्राईवर को ट्रेन चलाने का अनुभव 8 से 10 साल का हो जाता है तभी उसे यात्री ट्रेन चलाने दी जाती है. अर्थात, ड्राइवरों को पता था कि इस स्थान पर हर साल दशहरे के मेले में खासी भीड़ जुटती है. इसके बावजूद दोनों ट्रेनें अपनी फुल रफ्तार से वहां से गुजरी.अमृतसर ट्रेन हादसा

इस हादसे में अगर गलतियों की गिनती की जाये तो यह आंकड़ा दहाई में जाता है. लेकिन इस हादसे में हुईं ये पांच चूक जो नि:संदेह ही बड़ी चूक साबित हुई है.

1. ट्रैक पर पहुंचे लोगों को वहां से हटाने के इंतजाम नहीं थे.

2. रेल ट्रैक के किनारे मेला लगने की जानकारी रेलवे को नहीं दी थी.

3. स्थानीय पार्षद ने बिना इजाजत इस मेले का आयोजन किया.

4. घटना के बाद पुलिस को मौके पर पहुंचने में काफी देर लगी.

5. मेले में लगी एलईडी स्क्रीन को रेल ट्रैक की ओर लगाया गया था.