एटीएम में ठगी का शिकार हुई महिला ने चली ऐसी चाल, 17 दिन बाद खुद ही फंस गया ठग

एटीएम में ठगी का शिकार हुई महिला ने चली ऐसी चाल, 17 दिन बाद खुद ही फंस गया ठग

अगर कोई आपके साथ किसी तरह की ठगी करे और आप पुलिस में शिकायत करके निश्चिन्त हो जाते होंगे की अब इस मामले को पुलिस ही संभालेगी. लेकिन आप जानकार हैरान रह...

अलर्ट: खतरे में आपका क्रेडिट और डेबिट कार्ड, इस तरह हो रही है आपकी डिटेल्स चोरी
Be Alert: ऑनलाइन मंगाया था मोबाइल फोन, डिब्बा खोला तो उड़ गए होश
सावधान: ATM से रूपए ठगने का आया नया तरीका, ना चाहिए एटीएम कार्ड, ना OTP और ना ही पासवर्ड

अगर कोई आपके साथ किसी तरह की ठगी करे और आप पुलिस में शिकायत करके निश्चिन्त हो जाते होंगे की अब इस मामले को पुलिस ही संभालेगी. लेकिन आप जानकार हैरान रह जायेंगे कि एक महिला ने 17 दिन बाद उस शख्स को दबोच लिया जिसने मदद करने के बहाने ठगी की वारदात को अंजाम दिया था. पुलिस के मुताबिक, इस चोर ने महिला के साथ 10 हजार रु की धोखाधड़ी को अंजाम दिया था.atm fraud

मामले के अनुसार, उक्त आरोपी ने महिला की मदद करने के बहाने उसके कार्ड की डिटेल माँलूम कर ली. और मौका मिलते ही अकाउंट से 10 हजार रु पार कर लिए. धोखाधड़ी की शिकार 35 साल की महिला ने उसे पकड़ने के लिए एक जाल बिछाया. रेहाना शेख नाम की महिला ने पुलिस को बताया कि 18 दिसंबर को वह पाली हिल स्थित अपने ऑफिस जाने के लिए ट्रेन से उतरी थी. इसके बाद बांद्रा स्टेशन गई और पैसे निकालने की कोशिश की. लेकिन किसी वजह से पैसा निकल नहीं पा रहा था.

महिला ने पुलिस को बताया कि उस वक्त पास ही खडे़ आरोपी भूपेंद्र मिश्रा ने उसे मदद की पेशकश की. उसने मदद करने के बहाने कार्ड डिटेल मालूम कर लिया. महिला ने कहा की उस वक्त तो मैं पैसे नहीं निकाल पाई और वो अपने दफ्तर चली गई. लेकिन जैसे ही अपने ऑफिस पहुंची, 10 हजार रु निकाले जाने का मैसेज फोन पर आया. उसके बाद महिला ने पुलिस में शिकायत दर्ज़ करवाई और खुद भी उस आरोपी को ढूंढने की कोशिश की लेकिन कुछ पता नहीं चला.atm fraud

फिर महिला ने आरोपी को पकड़ने का प्लान बनाया. महिला हर रोज एटीएम के चक्कर लगाने लगी. उसने कई एटीएम के चक्कर लगाए. लेकिन उसे सफलता नहीं मिली. 17 दिन के बाद चार जनवरी को रात 11 बजे करीब उसने आरोपी को एक एटीएम के बाहर देखा. जिसके बाद महिला ने किसी तरह आरोपी को पकड़ लिया और शोर मचाने लगी. तुरंत ही आसपास से लोग एकत्रित हो गए और उन्होंने उसकी मदद की. किसी ने पुलिस को फ़ोन कर दिया और मौके पर पुलिस भी पहुँच गई. आरोपी को पुलिस के हाथों सौंप दिया. पुलिस जांच में पता चला है कि आरोपी पर सात मामले पहले से दर्ज हैं.

COMMENTS