बहुत खतरनाक होता है राहुकाल में शुभ कार्य शुरू करना, जानिये कब होता है राहुकाल

बहुत खतरनाक होता है राहुकाल में शुभ कार्य शुरू करना, जानिये कब होता है राहुकाल

सभी धर्मों में मान्यता है की शुभ मुहूर्त में किया जाने वाला कार्य अच्छा फल देता हैं, लेकिन ये भी माना जाता है की यदि कोई कार्य अशुभ काल में होता है तो...

SBI का बड़ा फैसला- किसी दुसरे के खाते में नहीं जमा कर सकेंगे कैश, ये है कारण
जानिए कब शुरू हो रहे हैं महानवरात्र, देवी शक्ति के नौ रूप और उनकी उपासना के दिन
हरियाणा के कंडक्टरों की बात ही कुछ निराली है, सुनोगे तो हँसते-हँसते पेट दर्द करने लगा जायेगा

सभी धर्मों में मान्यता है की शुभ मुहूर्त में किया जाने वाला कार्य अच्छा फल देता हैं, लेकिन ये भी माना जाता है की यदि कोई कार्य अशुभ काल में होता है तो उसका विपरीत प्रभाव भी पड़ता हैं. राहुकाल से बचने के लिए हिन्दू धर्म में कोई भी शुभ कार्य करने से पहले मुहूर्त देखने का रिवाज हैं. हिन्दू धर्म में राहुकाल को किसी भी अच्छे कार्य के लिए शुभ नहीं माना जाता हैं. इसलिए राहुकाल के समय के बारे में जानना भी आवश्यक हो जाता है.

बहुत कम लोगों को पता है की राहुकाल के समय में किये जाने वाले शुभ कार्य पर कैसे अशुभ प्रभाव पड़ता हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें की ज्योतिष विद्या में राहु को छाया माना गया हैं और कहा गया है की राहुकाल का जो समय होता है  उस दौरान कोई भी शुभ कार्य करना वर्जित होता हैं.

सूर्य के उदय होने के पश्चात और अस्त होने तक की समय अवधि के दौरान कुल आठ भागों में एक भाग का मालिक राहु होता है, जिसकी समय अवधि 90 मिनट की होती हैं. ज्योतिष शास्त्र में शुरू किता जाने वाला शुभ कार्य जैसे किसी वस्तु की खरीदी आदि को शुभ नही माना जाता है.

इस काल में जो कार्य शुरू हो जाता है तो उसके पूरा होने तक अनेकों विघ्न आते हैं. व्यापार यदि राहुकाल में शुरू किया जाता है तो वो भी घाटे में आकर बंद होने लगता हैं. अत: किसी भी कार्य की शुरुआत करने से पहले राहुकाल को जान लेना अति आवश्यक हो जाता हैं. विभिन्न स्थानों पर सूर्य के उद्य और अस्त होने की अवधि अलग अलग होती हैं साथ ही साथ ऋतु के परिवर्तन के कारण राहुकाल का समय भी अलग-अलग होता हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें की वर्ष के सभी हफ्तों में प्रत्येक सात दिनों का राहुकाल इस प्रकार माना गया हैं-

राहुकाल का समय सोमवार के दिन सुबह 7:30 से लेकर 9:00 तक माना जाता हैं.

हफ्ते के दूसरे दिन मंगलवार को दोपहर के 3:00 से 4:30 तक राहुकाल का समय माना गया है.

हफ्ते के तीसरे दिन अर्थात् बुधवार को राहुकाल का समय 12:00 से लेकर 1:30 तक निर्धारित माना गया हैं.

गुरुवार के दिन राहुकाल का स्टैंडर्ड समय दोपहर के 1:30 से 3:00 तक होता हैं.

शुक्रवार को राहुकाल का समय सुबह के 10:30 से लेकर 12.00 तक होता है.

राहुकाल का प्रभाव शनिवार को सुबह 9.00 से लेकर 10:30 बजे तक होता है.

हफ्ते के आखरी दिन अर्थात् रविवार को राहु शाम के 4.30 से 6.00

रविवार को राहुकाल शाम 04:30 से 06 बजे तक के समय का स्वामी होता हैं.

COMMENTS

WORDPRESS: 7
  • comment-avatar
  • comment-avatar
  • comment-avatar

    […] बहुत खतरनाक होता है राहुकाल में शुभ का… […]

  • comment-avatar

    […] यदि कोई कार्य अशुभ काल में होता है तो…Read More Subhash Nandiwal 3 July 25, […]

  • comment-avatar
  • comment-avatar
  • comment-avatar