बीड़ी की विनाशकारी सच्चाई आई सामने, हर साल होता है 80 हजार करोड़ का नुकसान

बीड़ी की विनाशकारी सच्चाई आई सामने, हर साल होता है 80 हजार करोड़ का नुकसान

हमारे देश में बीड़ी काफी प्रचलित है. 15 साल के बच्चों से लेकर उम्रदराज लोगों तक में बीड़ी की लत बड़ी तादाद में है. लेकिन क्या आप जानते हैं की बीड़ी पी...

अगर करते हैं अधिक समय तक बैठकर काम तो हो जाएँ सावधान, जल्दी ही आ सकता है मौत का पैगाम
बदलता मौसम लेकर आता है बिमारियों की सौगात, जानें इससे बचने के उपाय
स्वस्थ रहने के शॉर्टकट टिप्स, जिनके पास समय की कमी है वो इन टिप्स को जरुर फॉलो करें

हमारे देश में बीड़ी काफी प्रचलित है. 15 साल के बच्चों से लेकर उम्रदराज लोगों तक में बीड़ी की लत बड़ी तादाद में है. लेकिन क्या आप जानते हैं की बीड़ी पीने से हमारे देश को करीब 80 हजार करोड़ रुपये का नुकसान सालाना उठाना पड़ता है. टोबैको कंट्रोल नामक जर्नल में प्रकाशित रिसर्च के मुताबिक, बीड़ी से स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचता है और लोगों को समय से पहले मौत का सामना करना पड़ता है.

अंतिम संस्कार के बाद घर लौटी ‘मृत’ महिला, पुलिस के छूटे पसीने

IANS की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बीड़ी से होने वाला नुकसान देश में स्वास्थ्य पर होने वाले कुल खर्च का दो फीसदी है. रिपोर्ट में कहा गया है- ‘सीधे तौर पर बीमारी की जांच, दवाई, डॉक्टरों की फीस, अस्पताल, परिवहन पर होने वाला खर्च और परोक्ष खर्च में रिश्तेदारों का समायोजन व परिवार की आय को होने वाला नुकसान इसमें शामिल है.

गौरतलब है की हमारे देश में बीड़ी पीने वालों में 15 साल से लेकर 70 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों की तादाद 7.2 करोड़ है. वहीं, रिसर्च के अनुसार, बीड़ी से 2016-17 में सिर्फ 4.17 अरब रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ था. 2017 के इस रिसर्च में स्वास्थ्य सेवा खर्च पर राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण और ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे के आंकड़ों को शामिल किया गया.

घर बनाने के लिए ईंटों के प्रयोग पर लग सकता है बैन, अब इस मैटिरियल से बनेगें घर

इस रिसर्च और रिपोर्ट के लेखक तथा केरल के कोच्चि स्थित पब्लिक पॉलिसी रिसर्च सेंटर से जुड़े रिजो एम. जॉन ने कहा है की भारत में पांच में से करीब एक परिवार को इस विनाशकारी खर्च का सामना करना पड़ रहा है. तंबाकू और उससे शरीर को होने वाले नुकसान पर हो रहे खर्च के कारण करीब 1.5 करोड़ लोग गरीबी के हालात से गुजर रहे हैं. खासतौर से गरीब लोग भोजन और शिक्षा का खर्च वहन नहीं कर पा रहे हैं.

COMMENTS

WORDPRESS: 1