बसपा ने तोडा INLD से नाता, बीजेपी से बागी राजकुमार सैनी से किया गठबंधन

बसपा ने तोडा INLD से नाता, बीजेपी से बागी राजकुमार सैनी से किया गठबंधन

लोकसभा चुनावों में अब कुछ ही समय शेष है. ऐसे में सभी राजनैतिक दल तैयारियों में जुट चुके हैं. इस मौके पर हरियाणा की राजनीति में एक बड़ी हलचल हुई है. हाल...

बीपी का देशी इलाज, अपनाएँ ये घरेलु देशी नुस्खे और ब्लडप्रेशर को कहें बाय
जींद उपचुनाव: पहली बार खिला कमल, 47 सालों से कोई भी नहीं तोड़ पाया ये रिकॉर्ड
Twitter: बसपा सुप्रीमो मायावती ने बदला अपना नाम, जानिए अब किस नाम से है अकाउंट

लोकसभा चुनावों में अब कुछ ही समय शेष है. ऐसे में सभी राजनैतिक दल तैयारियों में जुट चुके हैं. इस मौके पर हरियाणा की राजनीति में एक बड़ी हलचल हुई है. हाल ही में हरियाणा के जींद में हुए उपचुनाव में INLD की करारी हार के बाद उसके सहयोगी दल बहुजन समाज पार्टी ने INLD से गठबंधन तोड़ लिया है. ये गठबंधन करीब नौ माह तक ही चल पाया है. बसपा ने INLD से नाता तोड़कर लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी यानी एलएसपी से गठबंधन का ऐलान किया है.लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एलएसपी भाजपा के बागी सांसद राज कुमार सैनी की पार्टी है. गौरतलब है कि हाल ही में हुए जींद उप चुनाव में  ओम प्रकाश चौटाला के नेतृत्व वाली इंडियन नेशनल लोक दल (आईएनएलडी) को पारिवारिक कलह के बीच हार का सामना करना पड़ा. पार्टी के उम्मीदवार उम्मेद सिंह रेढू की जमानत तक जब्त हो गई.

बहुजन समाज पार्टी के हरियाणा के प्रभारी मेघराज ने कहा, ‘बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री के निर्देशों पर बसपा ने आज आईएनएलडी से गठबंधन खत्म कर दिया और लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी (एसएसपी) से गठबंधन कर लिया’. इस गठबंधन के तहत बहुजन समाज पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव में हरियाणा में 8 लोकसभा सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी और 35 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी. जबकि एलएसपी लोकसभा की दो सीटों और विधानसभा की 55 सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी.लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी

गौरतलब है कि कुरुक्षेत्र से भाजपा के बागी सांसद सैनी ने पिछले साल ‘लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी’ बनाई थी और उनके उम्मीदवार ने जींद उपचुनाव में INLD के रेढू के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन किया था. हरियाणा में सत्तारूढ़ बीजेपी ने जींद उपचुनाव में जीत दर्ज की जबकि जननायक जनता पार्टी के दिग्विजय सिंह चौटाला दूसरे नंबर पर रहे थे तो वहीँ, कांग्रेस के रणदीप सिंह सुरजेवाला मुश्किल से ही जमानत बचा पाए थे.