उम्रकैद से भी बड़ी सजा मिली बलात्कारी ‘बाबा’ को , सीबीआई कोर्ट ने सुनाया फैसला

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के लिए सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने सजा का ऐलान कर दिया है. उनको 20 साल की जेल की सजा सुनाई गई है. रेप को दो ...

टिकट कटने से नाराज बीजेपी के नेताओं का हंगामा, 250 से अधिक कार्यकर्ताओं ने छोड़ी पार्टी
शातिर ने लगाया अमेज़न को सवा करोड़ का चुना, तरीका जानकार हैरान रह जाओगे
सतलोक आश्रम के स्वयंभू ‘बाबा’ रामपाल और 15 अन्य को हत्या के मामलों में उम्रकैद

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के लिए सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने सजा का ऐलान कर दिया है. उनको 20 साल की जेल की सजा सुनाई गई है. रेप को दो मामलों में उनको 10-10 साल की जेल की सजा मिली है. इसके साथ ही 15-15 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है, जो पीड़िता को दिया जाएगा. इस तरह राम रहीम को उसकी करतूतों के लिए उम्रकैद से भी बड़ी सजा मिली है. उम्रकैद में सामान्यत: दोषी को 14 साल के लिए जेल भेजा जाता है.

गुरमीत को यह सज़ा जज गुरदीप सिंह ने सुनाई. सीबीआई के वकील ने उसके लिए अधिकतम सजा की मांग की थी, वहीँ गुरमीत के वकील द्वारा उसके समाजसेवा सम्बन्धी कार्यों का हवाला देते हुए नरमी बरते जाने की अपील की थी, इससे पहले बाबा हाथ जोड़कर रहम की भीख मांगता रहा लेकिन जज साहब ने उसकी एक नहीं सुनी.

वहीं केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दुष्कर्म मामले में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को सजा सुनाए जाने से पहले हरियाणा और पंजाब में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की. गृह मंत्रालय ने कहा कि स्थिति तनावपूर्ण है लेकिन नियंत्रण में बनी हुई है. केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, गृह सचिव राजीव महर्षि और अन्य अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की.

इससे पहले मंत्रालय ने जारी बयान में कहा, “हरियाणा के डीजीपी कंट्रोल रूम से 28 अगस्त को आई रिपोर्ट के अनुसार इस हिंसा में अब तक 38 लोगों की मौत हो चुकी है, जिसमें से पंचकूला में 19, सिरसा में 6 और चंडीगढ़ में 13 लोगों की मौत हुई है. घायलों की कुल संख्या 224 है.”

बयान के मुताबिक, हरियाणा के सभी जिलों में आपराधिक प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 लागू है. बयान के मुताबिक, “सेना की टुकड़ियां लगातार फ्लैग मार्च कर रही हैं.” मंत्रालय ने यह भी कहा कि पंचकूला में नजर रखी जा रही है क्योंकि शुक्रवार को अदालत के फैसले के बाद सर्वाधिक हिंसा यहीं हुई थीं.

 

COMMENTS