चाय वाली चाची: जो 33 साल से जिंदा है सिर्फ चाय पीकर, डॉक्टर्स भी है हैरान

चाय वाली चाची: जो 33 साल से जिंदा है सिर्फ चाय पीकर, डॉक्टर्स भी है हैरान

अगर कोई आपसे कहे की आप कितने दिन भूखा रह सकते हैं? तो शायद आप अधिकतम एक या दो दिन का ही जवाब देंगे. लेकिन अगर कोई आपसे कहे की कोई है जो एक या दो दिन न...

करोड़ों कमाने के चक्कर में शख्स ने प्लेट में डाला मरा हुआ चूहा, फिर हुआ ऐसा
अब गधे बेचकर पैसा जुटाएगा पाकिस्तान, ये देश है गधों का खरीददार
गजब न्यूज़: एक बड़े खानदान का तोता हो गया है गुम, ढूंढने वाले को मिलेगा इतना बड़ा ईनाम

अगर कोई आपसे कहे की आप कितने दिन भूखा रह सकते हैं? तो शायद आप अधिकतम एक या दो दिन का ही जवाब देंगे. लेकिन अगर कोई आपसे कहे की कोई है जो एक या दो दिन नहीं बल्कि कई वर्षों तक बिना कुछ खाए जिंदा है तो आप शायद उसे पागल करार देंगे. लेकिन ये एकदम सच है. वो महिला है छतीसगढ़ की के कोरिया जिले की रहने वाली पल्ली देवी. जिसे लोग चाय वाली चाची के नाम से जानते हैं.चाय वाली चाची

आपको जानकार हैरानी होगी कि कोरिया जिले के बैकुन्ठपुर विकासखण्ड के बरदिया गांव में पल्ली देवी पिछले 33 सालों से सिर्फ चाय पर जिंदा हैं. इस महिला की इस अनूठी शारीरिक विशेषता को देखकर डॉक्टर भी हैरत में हैं. परिवार के लोगों के अनुसार पल्ली देवी ने पिछले 33 सालों से अन्न-जल को मुंह तक नहीं लगाया है. वो केवल चाय पीकर ही जीवित है. कोरिया जिला मुख्यालय से महज 15 किलोमीटर दूर बरदिया नाम का एक गांव है. जहां पल्ली देवी अपने पिता के घर पर रहती हैं.चाय वाली चाची

पल्ली देवी की उम्र 44 साल है, उनके पिता रतिराम के अनुसार जब वो छट्टी कक्षा में थी तब से ही उसने भोजन को छोड़ दिया. भाई ने बताया कि है जब से हमने होश संभाला है अपनी बहन को इसी तरह देखते आ रहे हैं. दिन ढलने के बाद चाय पीती हैं. हमारी बहन कोरिया जिले के तरगवा गांव में 1985 में शादी हो कर राम रतन के यहां गई थीं. पहली बार वापस आने के बाद दोबरा नही गईं. पिल्ली देवी ने बताया की भूख नहीं लगती है दिन ढलने के बाद लाल चाय पीती हूँ. वहीं जिला अस्पताल के डॉक्टर सर्जन डॉ एसके गुप्ता कहना है कि मेडिकल के आधार पर पर संभव नहीं है. आश्चर्यजनक है जांच करवानी चाहिए.

COMMENTS