चीन मचा सकता है पूर्वोतर में भारी तबाही, अरुणाचल प्रदेश और आसपास के इलाकों में अलर्ट

चीन मचा सकता है पूर्वोतर में भारी तबाही, अरुणाचल प्रदेश और आसपास के इलाकों में अलर्ट

केरल और कर्नाटक के साथ ही कई अन्य राज्यों में बाढ़ के कहर से जूझ रहे भारत के लिए इन दिनों चीन में हो रही भारी बारिश भी परेशानी का सबब बनी हुई है. पड़ोसी...

अगर कर्ज़ से परेशान हैं तो मनाएं गणेश जी को, इन ज्योतिषीय उपायों से कर्ज़ हो जायेगा छूमंतर
टेलिकॉम सेक्टर में बाबा रामदेव की धमाकेदार एंट्री, लांच हुई पतंजलि की सिम- डाटा से बीमा तक ये मिलेंगे फायदे
आज रात की जाएगी EVM में गड़बड़ी, हार्दिक के ट्विट ने मचाया तहलका

केरल और कर्नाटक के साथ ही कई अन्य राज्यों में बाढ़ के कहर से जूझ रहे भारत के लिए इन दिनों चीन में हो रही भारी बारिश भी परेशानी का सबब बनी हुई है. पड़ोसी देश चीन में इन दिनों भारी बारिश हो रही है जिस वजह से चीन द्वारा ब्रह्मपुत्र नदी में भारी मात्रा में पानी छोड़ने का अंदेशा है. इस बाबत चीन ने अलर्ट भी जारी किया है. चीन के अलर्ट के बाद भारत की चिंता बढ़ गई है.chin

चीन के इस अलर्ट के बाद केंद्र सरकार ने अरुणाचल प्रदेश को भी सचेत कर दिया है. ब्रह्मपुत्र नदी चीन की ओर से होती हुई आती है, चीन में इसे सांग्पो के नाम से जाना जाता है. चीन द्वारा दावा किया जा रहा है की इन दिनों सांग्पो नदी में पानी खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है. कहा जा रहा है की सांग्पो में पानी का लेवल पिछले पचास सालों के सबसे ऊँचे स्तर पर है.

आपको बता दें की साल 2012 में भी इसी कारण पूर्वोत्तर में बाढ़ की स्थिति हो गई थी, जिससे काफी तबाही मची थी. उस दौरान पानी छोड़ने से पहले चीन ने भारत को किसी भी प्रकार की सूचना नहीं दी थी. यही कारण है की चीन की मौजूदा हालात को देखते हुए अंदेशा है की कभी भी ब्रह्मपुत्र नदी में पानी छोड़ा जा सकता है.chin

अलर्ट के बाद ब्रह्मपुत्र नदी और इसके आसपास के इलाकों में लोगों को और प्रशासन को अलर्ट पर रहने को कहा गया है. गौरतलब है की हाल ही में भारत के जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा पुनर्जीवन मंत्रालय और चीन के जल संसाधन मंत्रालय के बीच हुए समझौते के तहत यह तय हुआ था कि चीन हर साल बाढ़ के मौसम यानी 15 मई से 15 अक्तूबर के बीच ब्रह्मपुत्र नदी में जल-प्रवाह से जुड़ी सूचनाएं भारत को देगा.