‘चौकीदार चोर है’ कहने पर फंसे राहुल गांधी, सुप्रीम कोर्ट ने भेजा नोटिस

‘चौकीदार चोर है’ कहने पर फंसे राहुल गांधी, सुप्रीम कोर्ट ने भेजा नोटिस

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी अकसर अपनी सभाओं में राफेल मामले को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधते रहते हैं. लेकिन अब राहुल गांधी को पीएम मोदी को चोर कहना...

लोकसभा चुनाव से पहले राहुल गाँधी का मास्टर स्ट्रोक, गरीबों को हर साल 72 हज़ार देने का वादा
कभी राहुल गांधी की प्रेमिका बनना चाहती थी ये जानी-मानी एक्ट्रेस, राहुल भी हमेशा करते थे ऐसा
राहुल गाँधी की बदजुबानी, पीएम मोदी के लिए कहे आपत्तिजनक शब्द- जानिए क्या कहा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी अकसर अपनी सभाओं में राफेल मामले को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधते रहते हैं. लेकिन अब राहुल गांधी को पीएम मोदी को चोर कहना भारी पड़ सकता है. सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी के ‘चौकीदार चोर है’ बयान पर उन्हें नोटिस जारी किया है. सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गाँधी को कोर्ट की अवमानना का दोषी मानते हुए उनसे जवाब माँगा है. इस मामले की अगली सुनवाई 23 अप्रैल को होगी.

भारतीय जनता पार्टी की नेता मीनाक्षी लेखी ने सुप्रीम कोर्ट में राहुल गांधी के खिलाफ याचिका दायर की थी. इस याचिका की सोमवार को सुनवाई हुई, इस दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने माना कि हमने ये बयान कभी नहीं दिया है, हम इस मसले पर सफाई मांगेंगे. कोर्ट ने कहा कि हम ये साफ करना चाहते हैं कि जो भी विचार कोर्ट को लेकर मीडिया में कहे गए हैं, वह पूरी तरह से गलत हैं. उन्होंने कहा की हमें आशा है की राहुल गांधी अपने इस बयान पर अपनी सफाई देंगे.Chowkidar chor hai

आपकी जानकारी के लिए बता दें की सुप्रीम कोर्ट ने राफेल डील से जुड़े फैसले पर पुनर्विचार याचिका को मंजूर किया था. जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने टिप्पणी की थी कि अब सुप्रीम कोर्ट भी कह रहा है कि चौकीदार चोर है. राहुल गाँधी अक्सर अपनी रैलियों और भाषणों में ‘चौकीदार चोर है’ का नारा लगवाते रहे हैं.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट राफेल मामले में केंद्र सरकार को क्लीन चिट दे चुका था, अदालत ने राफेल विमान की खरीद प्रक्रिया को सही माना था. लेकिन इसके बाद प्रशांत भूषण, अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा ने कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका डाली, जिसे कोर्ट ने स्वीकार कर लिया साथ ही एक अखबार द्वारा छापे गए दस्तावेज़ों को सबूत मानने की हामी भरी थी.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0