कांग्रेस के मंत्री ने मांगी फॉर्च्यूनर, कहा- छोटी गाड़ी में कोई नहीं देखता

कांग्रेस के मंत्री ने मांगी फॉर्च्यूनर, कहा- छोटी गाड़ी में कोई नहीं देखता

कर्नाटक के खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री जमीर अहमद कार की मांग को लेकर सुर्खियों में हैं. मंत्री ने लोगों पर रौब डालने के लिए सरकार से फॉर्च्यूनर गाड़...

नोटबंदी पर बड़ा खुलासा, पहली बार RBI ने जारी किये आंकड़े
सलमान खान के परिवार पर लगा एक और कलंक, अरबाज़ खान का नाम इस रैकेट से जुड़ा
मैं अगर तुम्हारी बहन को लेकर भाग जाऊं तो? सेलेक्ट होने वाले कंडीडेट का जवाब ये था

कर्नाटक के खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री जमीर अहमद कार की मांग को लेकर सुर्खियों में हैं. मंत्री ने लोगों पर रौब डालने के लिए सरकार से फॉर्च्यूनर गाड़ी की मांग कर दी. मामला जब हाथ से निकलने लगा तो मीडिया के सामने आकर सफाई देनी पड़ी. जमीर अहमद ने कर्नाटक के कार्मिक विभाग और प्रशासनिक सुधार को पत्र लिखकर कहा की उन्हें इनोवा की जगह एसयूवी (टोयोटा फॉर्च्यूनर) दी जाये.

विद्यार्थियों के आये अच्छे दिन, सरकार करेगी पेड़ लगाने वाले विद्यार्थियों को मालामाल

मामला सुर्ख़ियों में आने के बाद उन्हें काफी आलोचना का सामना भी करना पड़ा. जमीर अहमद ने इस मुद्दे पर सफाई देते हुए कहा कि, ‘मामला इतना बड़ा भी नहीं था जितना मीडिया ने बना दिया है. मैंने केवल एसयूवी के लिए आग्रह किया था, ना कि किसी खास ब्रैंड की कार के लिए.’ उन्होंने आगे कहा की, ‘मैंने कोई Lexus या BMW की मांग नहीं की है मैं तो एसयूवी में ही चलने का आदी हूं.’

अहमद ने कहा की मुझे पुरे जिले का दौरा करना होता है और मैं छोटी गाड़ी में चलने का आदि नहीं हूँ, और मैंने सरकारी प्रावधान के तहत एक कार की मांग क्या कर दी मीडिया ने मामले को बेवजह से ही तूल दे दिया. आपको बता दें की जमीर अहमद ने कर्नाटक के कार्मिक विभाग और प्रशासनिक सुधार को पत्र लिखकर कहा था कि ‘मुझे एक एसयूवी चाहिए. इस के लिए उन्होंने कहा था की इनोवा में मैं असहज महसूस करता हूं. इनोवा की ऊंचाई कम बताते हुए उन्होंने कहा, ‘एसयूवी की ऊंचाई अधिक होती है, इस लिए मैं आधिकारिक वाहन के रूप में एसयूवी की मांग कर रहा हूं. अगर सरकार मुझे ये कार आवंटित नहीं करती, तो शायद मैं अपने वाहन का उपयोग करूंगा.’

तीन दिन में ही बदलने लगा कश्मीर, जहाँ जवानों पर बरसते थे पत्थर अब वहां मिल रहा चाय-नाश्ता

जमीर अहमद का कहना था की मैं बचपन से ही बड़ी गाड़ी का उपयोग कर रहा हूँ, और मैं कोई साधारण आदमी नहीं बल्कि एक मंत्री हूँ. अगर मैं छोटे वहां में जाऊंगा तो कोई मुझ पर ध्यान नहीं देगा. जबकि अगर बड़े वहां में जाऊंगा तो लोग मुझ पर ध्यान देंगे.