बैंड बजाकर मनोरंजन करवाते थे शातिर ठग, पीछे से लोगों के बैग और महंगे मोबाइल कर लेते थे पार

बैंड बजाकर मनोरंजन करवाते थे शातिर ठग, पीछे से लोगों के बैग और महंगे मोबाइल कर लेते थे पार

अगर आपको दिल्ली के किसी इलाके में बैंड बजाकर मनोरंजन कराने वाली कोई टीम दिखाई दे तो सावधान हो जाईयेगा. दरअसल ये लोग आपका मनोरंजन करने नहीं बल्कि आपको ...

मोदी सरकार की ‘धन धना धन’ योजना, कीजिये सिर्फ ये काम और ले जाईये एक करोड़ से पांच करोड़ तक नकद
एक गिलास पानी इतना करामाती होता है ये जानकार आप आज से ही पीना शुरू कर दोगे
एटीएम का यूज़ करने वालों के लिए खुशखबरी, अब इन बैंकिंग सेवाओं पर नहीं लगेगा GST

अगर आपको दिल्ली के किसी इलाके में बैंड बजाकर मनोरंजन कराने वाली कोई टीम दिखाई दे तो सावधान हो जाईयेगा. दरअसल ये लोग आपका मनोरंजन करने नहीं बल्कि आपको ठगने का इंतजाम करने वाले गिरोह के लोग है. दिल्ली के साउथ डिस्ट्रिक के हौज खास थाने की पुलिस ने एक ऐसे ही गिरोह का पर्दाफाश किया है जो भीड़ भाड़ वाले बाजार में बैंड बजाकर एंटरटेनमेंट के बहाने लोगों के बैग और पॉकेट से महंगे मोबाइल साफ कर देता था.

band baza wala thag

 

दिल्ली पुलिस को लगातार मिल रही शिकायतों के बाद पुलिस एक्शन में आई. पुलिस ने अब तक गिरोह के सात लोगों को गिरफ्तार किया है और इस बात की जांच कर रही है कि इस गिरोह में और कौन-कौन शामिल है. पुलिस ने गिरफ्तार किए लोगों से डेढ़ सौ से ज्यादा मोबाइल बरामद किए हैं. पुलिस के अधिकारीयों के अनुसार इस गिरोह के लोग अक्सर अक्सर ऐसे बाजारों को चुना करता था जहां लोगों का आना-जाना अधिक रहता था. यह गिरोह पहले बैंड बजाकर लोगों की भीड़ को अपने तरफ एकट्ठा करता था और फिर गिरोह के ही कुछ लोग उसमें मोबाइल चोरी करने के लिए उनको टारगेट करते थे.

पुलिस को गिरोह के सदस्यों ने बताया की मोबाइल चोरी करने के बाद गिरोह के सदस्य बाजार से गायब हो जाते थे और अपने ठिकाने पर पहुंच कर मोबाइल को बेचने के लिए आगे सप्लाई कर देते थे. पुलिस ने गिरफ्तार किये गए गिरोह के लोगों के पास से 151 मोबाइल बरामद किए हैं जिनकी कीमत 12 लाख से अधिक बताई जा रही है.band baza wala thag

एडिशनल डीसीपी परमिंदर सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि गिरोह के सात मेंबर गिरफ्तार किए गए हैं. इन सात लोगों में से 3 व्यक्ति बिहार के रहने वाले हैं जबकि अन्य 4 लोग झारखंड के निवासी हैं. पुलिस ने बताया कि यह गिरोह ज्यादातर अमीर लोगों को अपना शिकार बनाता था और मोबाइल चोरी करके दूसरी जगह में कम दामों में बेच देते थे.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0