‘मोडे नाल मोडा मारके’ लूटने वाले गैंग का पर्दाफाश, शिकार को पता भी नहीं चले और लूट लिया जाये

‘मोडे नाल मोडा मारके’ लूटने वाले गैंग का पर्दाफाश, शिकार को पता भी नहीं चले और लूट लिया जाये

आपने ‘मोडे नाल मोडा मारके’ इश्क लड़ाते को कभी-कभार सुना ही होगा लेकिन क्या आप सोच भी सकते है की किसी को महज कंधा टकराकर लूट लिया जाये? नहीं ना, तो सावध...

अमृतसर ट्रेन हादसा: बढ़ सकती है हादसे में मरने वालों की संख्या, पीएम मोदी ने कही ये बात
बुराड़ी कांड: चार महीने बाद आई सच्चाई सामने, साइकोलॉजिकल अटोप्सी रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा
भारत की नकल कर पाकिस्तान ने एक ही झटके में बचाए 60 करोड़ डॉलर, यूज किया मोदी का पुराना फार्मूला

आपने ‘मोडे नाल मोडा मारके’ इश्क लड़ाते को कभी-कभार सुना ही होगा लेकिन क्या आप सोच भी सकते है की किसी को महज कंधा टकराकर लूट लिया जाये? नहीं ना, तो सावधान हो जाईये. राजधानी दिल्ली में अगर कोई आपको कंधे से टक्कर मारे और फिर आपको पता चले की आप लुट चुके हैं तो हैरान मत होईये. दिल्ली पुलिस ने अक ऐसे ही गैंग का पर्दाफाश किया है जो लोगों को टक्कर मारकर लूट लेता था.टक्कर गैंग

इस गैंग के बदमाश इतने शातिर हैं कि राह चलते लोगों को कंधे से हल्की- सी टक्कर मारते हैं और उनको लूट लेते हैं. दिलचस्प बात यह है कि ये जिस राह चलते शख्स को लूटते हैं, वो उस समय जान भी नहीं पाता है. और जब तक लुटने वाले को पता चले तब तक बहुत देर हो चुकी होती है.

वेस्ट दिल्ली जिला पुलिस की स्पेशल टीम ने ऐसे ही 2 कथित शातिर बदमाशों को अरेस्ट किया है. अरेस्ट किये गए दोनों टक्कर गैंग के मेंबर बताए जा रहे हैं. पुलिस के अनुसार लूटपाट करने और जेब साफ करने के लिए ये जानबूझकर राह चलते लोगों को धक्का देते हैं. जब तक सामने वाला सम्भलता है और कुछ समझ पाता है, तब तक ये उसके कीमती सामान और जेब को साफ कर चुके होते हैं.

पकड़े गए बदमाशों के मुताबिक वे बैंक से कैश निकालकर बाहर निकलने वाले लोग, एटीएम से बाहर निकलने वाले लोग और बाजारों में खरीदारी करने निकले लोगों को अपना निशाना बनाते हैं. कई बड़े बाजारों में ये ज्वैलरी की दुकानों के आसपास खड़े रहते और शिकार की ताक में रहते हैं, और इनकी नज़र में महिला को शिकार बनाना पुरुषों की तुलना में अधिक आसान होता है.टक्कर गैंग

बदमाशों ने पुलिस को बताया की सबसे पहले वे अपना शिकार तय करते हैं और उसके बाद गैंग का एक बदमाश शिकार को धक्का देता और फिर रुककर उससे माफी मांग कर उसका ध्यान बांटने  लगता है. इतने में दूसरा बदमाश उसके कीमती सामान पर हाथ साफ कर देता है. उन्होंने बताया की कई बार आवश्यकता पड़ने पर झगड़ा भी करना पड़ता है ताकि शिकार भ्रमित हो सके. पुलिस का कहना है की पकड़ में आये बदमाश अब तक राजधानी दिल्ली में करीब 18 वारदातों को अंजाम दे चुके हैं.

COMMENTS