अगर कर्ज़ से परेशान हैं तो मनाएं गणेश जी को, इन ज्योतिषीय उपायों से कर्ज़ हो जायेगा छूमंतर

अगर कर्ज़ से परेशान हैं तो मनाएं गणेश जी को, इन ज्योतिषीय उपायों से कर्ज़ हो जायेगा छूमंतर

धन की इस भौतिक संसार में सभी को जरुरत होती है और इसके बिना जीवन की कल्पना भी मुश्किल सी लगती है. कुछ लोगों पर किसी दुर्घटनावश या किसी बुरी संगत की वजह...

विकराल हुई घग्घर- 10 घंटे में 5 फुट तक बढ़ा जलस्तर, कई गाँवों का आपसी सम्पर्क टुटा
इंतज़ार खत्म: JioPhone2 की फ़्लैश सेल होने वाली है शुरू, इन खूबियों से होगा लैस
टावर के शिखर पर नज़र आया ‘शक्तिमान’, बारिश के लिए कर रहा था डांस

धन की इस भौतिक संसार में सभी को जरुरत होती है और इसके बिना जीवन की कल्पना भी मुश्किल सी लगती है. कुछ लोगों पर किसी दुर्घटनावश या किसी बुरी संगत की वजह से लक्ष्मी का कोप हो जाता है या सीधे शब्दों में कहें तो कुछ लोगों से लक्ष्मी जी रूठ जाती है और वे लोग तंगहाली का शिकार हो जाते है. इसी कारण बहुत से लोगों को कर्जा लेना पड़ता है और वो लोग फिर तय समय पर उसे ना लौटा पाने के कारण क़र्ज़ से परेशान हो जाते है.क़र्ज़ से परेशान

ऐसे लोगों को माता लक्ष्मी जी के साथ ही भगवान गणेश जी की आराधना विधिपूर्वक करनी चाहिए. ज्योतिष के अनुसार कर्जदार की कुंडली के छठवें भाव, एकादश भाव तथा द्वादश भाव से कर्जों की स्थिति देखी जाती है. इन भावों के स्वामियों के कमजोर होने पर या इन भावों में शुभ ग्रहों के होने पर कर्जों की स्थिति बन जाती है. व्यय भाव के मजबूत होने पर व्यक्ति सुख सुविधा के लिए कर्ज लेता है. आयु भाव के प्रभावशाली होने पर स्वास्थ्य की रक्षा के लिए कर्ज लेता है. कुंडली में अग्नि तत्व की मात्रा मजबूत होने पर भी कर्ज की संभावना बढ़ जाती है. मंगल का कमजोर होना भी कर्जों के लिए काफी हद तक जिम्मेदार होता है.

ज्योतिष के अनुसार जब शुभ बृहस्पति या शुक्र का प्रभाव हो तो आसानी से कर्ज चुक जाता है. लेकिन जब बुध का प्रभाव हो तो काफी प्रयास करने पर कर्ज चुक जाता है. जब जातक का मंगल ख़राब हो तो जातक पर किसी न किसी रूप में कर्ज बना रहता है.

अगर जातक की कुंडली में शनि का प्रभाव है तो कर्ज बहुत लम्बा होता है. आम तौर पर जल्दी से चुकाया नहीं जा सकता. वहीँ, राहु का प्रभाव होने से, व्यक्ति कर्ज चुकाना ही नहीं चाहता. अगर आप भी लम्बे समय से कर्ज़ ना उतार पाने की वजह से परेशान हैं तो आप गणपति जी की उपासना करें ताकि आपको जल्दी से कर्ज़ से मुक्ति मिल जाये.क़र्ज़ से परेशान

इसके लिए सबसे पहले गणेश जी की सिन्दूरी प्रतिमा स्थापित करें. उनके समक्ष घी का चौमुखी दीपक जलाएं. गणपति जी को उन्हें मोदक और सिन्दूर अर्पित करें. इसके बाद कम से कम 108 बार ‘ॐ गं’ का जाप करें. इस प्रयोग को निरंतर हर मंगलवार को करें.

अगर बिना कारण के कर्ज लेना पड़ता हो, कुछ न कुछ कर्ज रहता ही हो. तो आप भगवान गणेश की सिन्दूर वर्ण की प्रतिमा स्थापित करें और उन्हें दूब की माला पहनाएं. भगवान को सिन्दूर अर्पित करें और ‘वक्रतुण्डाय हुं’ का जाप करें. इस प्रयोग में हर सात दिन बाद माला बदलनी जरुरी है. इस प्रयोग को हर मंगलवार को दोपहर को करें.

इसके साथ ही ‘ॐ गणेश ऋणं छिन्दी वरेण्यम हुं नमः फट’ मन्त्र का जाप एक माला निरंतर करें ताकि आपको कभी कर्ज़ लेने की नौबत ही नहीं आएगी.