धर्म संसद में हो गया निर्णय, अब इस दिन मनाया जायेगा दशहरा का पर्व

धर्म संसद में हो गया निर्णय, अब इस दिन मनाया जायेगा दशहरा का पर्व

इस बार विजयादशमी की सही स्थिति को लेकर हो रही भ्रम की स्थिति बनी हुई थी. इसके लिए जयपुर में देश की सबसे बड़ी धर्म संसद बुलाई गई. इया आयोजन में देश भर स...

दिवाली की रात जरुर करें ये ख़ास टोटके, माँ लक्ष्मी की कृपा से साल भर बरसेगा अपार धन
दिवाली पर पटाखों की बिक्री को लेकर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, दिया ये आदेश
दशहरा स्पेशल: जानिए रावण के बारे में हैरान कर देने वाली रोचक जानकारी

इस बार विजयादशमी की सही स्थिति को लेकर हो रही भ्रम की स्थिति बनी हुई थी. इसके लिए जयपुर में देश की सबसे बड़ी धर्म संसद बुलाई गई. इया आयोजन में देश भर से जुटे ज्योतिष विद्वानों और धर्मगुरुओं ने इस भ्रम की स्थिति का हल निकाल लिया है. सभी ने सर्व सम्मति से निर्णय लेते हुए 18 अक्टूबर को दशहरे की सही तिथि निश्चित की है.दशहरा

ज्योतिषियों के मुताबिक इस बार 18 अक्टूबर को शाम 5.52 से 7.30 के बीच प्रदोषकाल में रावण दहन श्रेष्ठ मुहूर्त होगा. दशहरे की सही तिथि के संबंध में हो रही भ्रम की स्थिति को लेकर जयपुर के राजकीय महाराजा आचार्य संस्कृत महाविद्यालय में ज्योतिष विद्वानों और धर्मगुरुओं ने धर्मसंसद आयोजित की गई थी.

इस धर्म संसद के आयोजन कर्ता प्रो. भास्कर शर्मा ने बताया कि शास्त्रों के अनुसार दशहरे के दिन होने वाले संयोग 19 अक्टूबर की बजाय 18 अक्टूबर को दोपहर बाद होगा. ऐसे में सभी ने एक मत से 18 अक्टूबर को दशहरे की सही तिथि घोषित की गई है.

हालाँकि, पुरे भारतवर्ष में अलग-अलग समयानुसार यह संयोग भी सभी जगहों पर अलग-अलग बन रहा है. इस हिसाब से सभी जगहों पर दशहरे की तिथि भी अलग होगी. इस दौरान ज्योतिष विद्वानों और धर्म गुरुओं ने यह मांग भी उठाई कि सरकार को अवकाश घोषित करने से पहले चर्चा कर लेनी चाहिए. जिससे ऐसी असमंजस की स्थिति भविष्य में न बने. धर्म संसद में ज्योतिष विद्वान पं. चंद्रशेखर शर्मा, पंडित दामोदर शर्मा, महामंडलेश्वर बालमुकुंदाचार्य, सालासर बालाजी के महंत डॉ. नरोत्तम पुजारी, डॉ. रवि शर्मा, विनोद नाटाणी आदि उपस्थित रहे.

आपको बता दें भारतवर्ष के अलग-अलग भागों में दशहरे की तिथि इस प्रकार होगी- जम्मू कश्मीर का पश्चिमार्ध (कठुआ, अनंतनाग, राजौरी, उधमपुर, जम्मू, श्रीनगर, बारामूला) हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, पूर्वस्थ कुछ भाग के अलावा महाराष्ट्र का कुछ हिस्सा, दमन, दीव, गोवा, कर्नाटक, केरल, आंध्रप्रदेश और तमिलनाडू में 18 अक्टूबर को दशहरा मनाया जाएगा.दशहरा

इसके विपरीत महाराष्ट्र के नागपुर, चंद्रपुर, गोंडिया, गढ़चिराली, बंगाल, बिहार, उड़ीसा, असम, अरुणचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, म्यांमार, त्रिपुरा, बांग्लादेश, मेघालय, भूटान, नेपाल, सिक्किम, छत्तीसढ़, देरादून, हरिद्वार, बरेली, अलीगढ़, चेन्नई सहित अन्य स्थान पर 19 अक्टूबर को दशहरा मनाया जाएगा.

COMMENTS