IAS अधिकारी बनकर पुलिस से करवाता था बड़े-बड़े काम, फिर हुआ फर्जी IAS का चौंका देने वाला खुलासा

IAS अधिकारी बनकर पुलिस से करवाता था बड़े-बड़े काम, फिर हुआ फर्जी IAS का चौंका देने वाला खुलासा

पुलिस के सामने ठगी के मामले को लेकर लोग अक्सर ही फ़रियाद लेकर आते रहते हैं लेकिन तब आश्चर्य की बात तो तब होती है जब कोई शातिर दिमाग वाला सीधे पुलिस को ...

सावधान: मौसम विभाग ने फिर दी चेतावनी, अगले 48 घंटे इन राज्यों के लिए है खतरनाक
मौसम विभाग का अलर्ट, अगले 24 घंटे देश के इन 12 राज्यों के लिए खतरनाक, भारी बारिश की आशंका
बहु को अकेला देखकर घर में घुसा चोर, रसोई में ले जाकर बहु ने किया ऐसा की भाग खड़ा हुआ चोर

पुलिस के सामने ठगी के मामले को लेकर लोग अक्सर ही फ़रियाद लेकर आते रहते हैं लेकिन तब आश्चर्य की बात तो तब होती है जब कोई शातिर दिमाग वाला सीधे पुलिस को ही ठगने की कोशिश करे. ऐसा ही एक हैरतअंगेज मामला नोएडा में देखने को मिला है जहाँ एक शातिर दिमाग वाले ने पुलिस को ही निशाने पर लिया है.fake ias

दरअसल, नोएडा के बादलपुर थाने में एक शख्स ने फोन करके खुद को 2005 त्रिपुरा कैडर बैच का आईएएस अधिकारी बताया. फोन करने वाले शख्स ने अपना नाम विशाल कुमार बताया और एक परिचित का काम करने के लिए कहा. पुलिस अधिकारी को शक हुआ. उन्होंने फोन करने वाले शख्स का नंबर सर्विलांस विभाग को जांच के लिए दे दिया. इसके बाद जो हुआ वह हैरान करने वाला था. पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि फोन करने वाला व्यक्ति किसी कंपनी में ड्राइवर है.

एसपी विनीत जायसवाल (ग्रामीण) ने शनिवार को बताया कि थाना बादलपुर पुलिस को एक व्यक्ति ने फोन किया और कहा कि वह 2005 बैच का त्रिपुरा कैडर का आईएएस अफसर विशाल कुमार बोल रहा है. उन्होंने बताया की उक्त  व्यक्ति ने स्वयं को त्रिपुरा में डीएम बताते हुए अपने एक परिचित का कोई काम करने के लिए कहा. जायसवाल ने बताया कि बातचीत के दौरान संदेह होने पर जब सर्विलान्स विधि से जांच की गई तब पता चला कि अपने आप को त्रिपुरा का डीएम बताने वाला व्यक्ति गाजियाबाद में रहता है.fake ias

जायसवाल ने बताया कि शनिवार को एक सूचना के आधार पर थाना बादलपुर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है. पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला कि उसका नाम मन्नी शंकर त्यागी है और वह एक कंपनी में कार ड्राईवर है. SP जायसवाल ने बताया कि उक्त व्यक्ति ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि उसने खुद को आईएएस अफसर बता कर लोगों के काम करवाए और एवज में मोटी रकम ली है उसका मोबाइल फोन जब्त कर पुलिस मामले की जांच कर रही है.

COMMENTS