Ganesh Chaturthi: जानें कब है गणेश चतुर्थी और इसका महत्व, पूजा और मुहूर्त संबंधी जानकारी

Ganesh Chaturthi: जानें कब है गणेश चतुर्थी और इसका महत्व, पूजा और मुहूर्त संबंधी जानकारी

हिन्दू धर्म में गणेश को अग्र पूजा का अधिकारी देवता माना जाता है और इनका स्थान सभी देवताओं में सर्वोपरी माना जाता है. भगवान गणेश बहुत ही दयालु और भक्तो...

YouTube ने की बड़ी कार्रवाही, अपने मंच से हटा दिए 78 लाख विडियो और चैनल कर दिए सस्पेंड
भविष्य में होने वाली घटनाओं का पूर्वाभास और आत्म शक्ति जगाने का अचूक सूत्र
मोदी का बड़ा कमाल, अबू धाबी ऑयल फील्ड में खरीदी 10 फीसदी हिस्सेदारी, दुनिया में मची खलबली

हिन्दू धर्म में गणेश को अग्र पूजा का अधिकारी देवता माना जाता है और इनका स्थान सभी देवताओं में सर्वोपरी माना जाता है. भगवान गणेश बहुत ही दयालु और भक्तों पर जल्दी प्रसन्न होने वाले देवता हैं. गणेश नाम का तात्पर्य ही गुणों का स्वामी होता है यानी सीधे शब्दों में कहें तो ये गुणों के भण्डार होते है. भगवान गणेश के जन्मदिन के उपलक्ष्य में ही गणेश चतुर्थी मनाई जाती है.गणेश चतुर्थी

गणेश चतुर्थी का महत्व

शास्त्रों के अनुसार इस दिन मध्याह्न काल में भगवान गणेश का जन्म हुआ था. इस दिन गणेश जी की मूर्ति की घर में स्थापना की जाती है और विधिवत रूप से उनकी पूजा-अर्चना की जाती है. इस साल गणेश चतुर्थी 13 सितम्बर को वीरवार के दिन मनाई जायेगी.

गणेश पूजन

भगवान गणेश को सभी दुखों को दूर करने वाला माना जाता है. कुछ लोग इस दिन भगवान की कृपा पाने के लिए व्रत भी करते हैं. भगवान गणेश को लड्डू बहुत पसंद है इसलिए इनकी पूजा में इन्हें लड्डू अर्पित किये जाते हैं. इसके अलावा इन्हें लाल और पीले रंग के फूल भी अति प्रिय है अत: पूजा में इनका प्रयोग जरूर करें.

इनकी पूजा में गायत्री मन्त्र का जाप विशेष फलदायी होता है और इन्हें दूब या दूर्वा भी पूजा में जरुर चढ़ाएं. इसके अलावा इनकी पूजा में हल्दी माला का जप करने से सभी संतापों से मुक्ति मिलती है. गणेश चतुर्थी में भगवान गणेश की सपरिवार पूजा करने से भगवान की कृपा बहुत जल्दी प्राप्त होती है.गणेश चतुर्थी

गणेश पूजन में सावधानी

गणेश चतुर्थी में गणेश जी की पूजा में विशेष ध्यान रखने वाली वाली ये है की इन्हें भी भगवान भोलेनाथ की तरह तुलसी अर्पित नहीं की जाती. अत: इनकी पूजा सामग्री में तुलसी पत्र नहीं होने चाहिए. गणेश चतुर्थी में गणाधिराज की मिटटी की बनी मूर्ति का प्रयोग करें तो बेहतर होगा. वैसे इन दिनों बाज़ार में बहुत सी मूर्तियाँ उपलब्ध रहती है. ऐसी मान्यता है की श्रद्धाभाव से घर में इनकी मूर्ति की स्थापना करने से घर में खुशियों का आगमन होता है.

COMMENTS