गुजरात चुनाव से पहले हार्दिक पटेल को बड़ा झटका

गुजरात चुनाव से पहले हार्दिक पटेल को बड़ा झटका

गुजरात में चुनावी सरगर्मियां तेज हो गयी है. पार्टियां अपने दांव पेंच बिठाने में जुट चुकी है. मोदी जी भी चुनाव को लेकर आज फिर गुजरात दौरे पर है. इधर ना...

बीजेपी ने जारी की चुनाव प्रभारियों की सूची, एमपी से धर्मेन्द्र प्रधान तो राजस्थान से जावडेकर
टिकट कटने से नाराज बीजेपी के नेताओं का हंगामा, 250 से अधिक कार्यकर्ताओं ने छोड़ी पार्टी
बड़ी खबर: अक्षय कुमार लड़ेंगे चुनाव, 2019 के लोकसभा चुनावों में देंगे कांग्रेस को कड़ी टक्कर

गुजरात में चुनावी सरगर्मियां तेज हो गयी है. पार्टियां अपने दांव पेंच बिठाने में जुट चुकी है. मोदी जी भी चुनाव को लेकर आज फिर गुजरात दौरे पर है. इधर नाटकीय घटनाक्रम में पटेल आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल के खासमखास और निजी माने जाने वाले वरूण पटेल और रेशमा पटेल ने बीजेपी में शामिल होकर हार्दिक पटेल को बड़ा झटका दिया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार यह घटनाक्रम प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भरतसिंह सोलंकी द्वारा हार्दिक पटेल को  कांग्रेस से हाथ मिलाने का ऑफर देने के बाद हुआ. कांग्रेस अध्यक्ष भरत सिंह सोलंकी ने ओबीसी वर्ग को 20% अतिरिक्त आरक्षण देने का वादा भी किया है.

आपको बता दे की वरूण और रेशमा दोनों ही हार्दिक के बेहद करीबी माने जाते थे, और हार्दिक के पाटीदार अनामत आंदोलन समिति का प्रमुख चेहरा थे. बीजेपी में शामिल होने के बाद पाटीदार नेताओं ने कहा हार्दिक पर बड़ा आरोप भी लगाया है. रेशमा के बयान के मुताबिक “हार्दिक कांग्रेस का एजेंट है ये साबित हो चुका है.” “हार्दिक कांग्रेस का एजेंट है और रहेंगे भी, हार्दिक ने एक बार भी कांग्रेस से नहीं पूछ की वो ओबीसी को आरक्षण देंगे या नहीं? हार्दिक उनसे लिखित में क्यूँ नहीं पूछ रहा?”

वरूण और रेशमा ने आरोप लगाया की हार्दिक मौजूदा राज्य सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए आंदोलन का इस्तेमाल करने का प्रयास कर रहा है. रेशमा पटेल ने कहा, ‘‘हमारा आंदोलन ओबीसी कोटा के तहत आरक्षण के बारे में था. यह बीजेपी को उखाड़कर उसकी जगह कांग्रेस को सत्ता में लाने के लिए नहीं था.

उनके अनुसार एक तरफ बीजेपी ने हमेशा हमारे समुदाय का समर्थन किया है और जहाँ तक मांगों की बात है  बीजेपी ने उनमें से अधिकतर मांगे मान भी ली है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस केवल हमारे वोट बैंक को इस्तेमाल करने का प्रयास मात्र कर रही है. और हम इस प्रकार की दुर्भावनापूर्ण साजिश का हिस्सा कदापि नहीं बनना चाहते हैं.

COMMENTS