हार्दिक पटेल को जेल, मेहसाणा दंगा मामले में मिली दो साल की सजा और 50 हज़ार जुर्माना

हार्दिक पटेल को जेल, मेहसाणा दंगा मामले में मिली दो साल की सजा और 50 हज़ार जुर्माना

पाटीदार आन्दोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल और उसके दो साथियों को दो साल की जेल की सजा सुनाई गई है. हार्दिक पटेल के साथ सरदार पटेल ग्रुप के अध्यक्ष लाल...

हार्दिक ने फोड़ा हार का ठीकरा EVM के सिर, बीजेपी को दी आन्दोलन की चेतावनी
हार्दिक पटेल के खिलाफ अरेस्ट वारंट, चुनाव से ठीक पहले कोर्ट का बड़ा झटका
पंजाब उपचुनाव में बीजेपी को झटका, कांग्रेस ने जीती दो लाख के अंतर से गुरदासपुर सीट

पाटीदार आन्दोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल और उसके दो साथियों को दो साल की जेल की सजा सुनाई गई है. हार्दिक पटेल के साथ सरदार पटेल ग्रुप के अध्यक्ष लालजी पटेल और एक अन्य समेत तीन लोगों को तीन साल पहले वहां आरक्षण समर्थक एक रैली के दौरान तत्कालीन भाजपा विधायक रिषिकेश पटेल के कार्यालय में हुई तोड़फोड़ के मामले में यह सज़ा सुनाई गई है.

23 जुलाई 2015 की इस घटना में कुल 17 लोगों को नामजद किया गया था जिनमे से 14 को अदालत ने बरी कर दिया है. हार्दिक पटेल और उसके साथियों को अदालत ने दो-दो साल के साधारण कारावास के अलावा 50-50 हजार रुपए के जुर्माने की भी सजा सुनाई है. इस पचास हज़ार की जुर्माना राशी में से दस हजार रुपए शिकायतकर्त्ता और एक समाचार चैनल के कैमरामैन सुरेश वणोल को दिए जायेंगे. आपको बता दें की भीड़ ने हमला करके उनका कैमरा तोड़ दिया था जिसके ऐवज में उन्हें ये राशी दी जाएगी.

इसके अलावा इस रकम से घटना के दौरान आगजनी में जली कार के मालिक बाबूजी ठाकोर को एक लाख रुपए और 40 हजार रुपए तत्कालीन विधायक पटेल को भी बतौर मुआवजा देने के आदेश अदालत ने दिए. हालाँकि सजा सुनाने के कुछ देर बाद 15,000 हज़ार के मुचलके पर हार्दिक पटेल और उनके दो साथियों, लालजी पटेल और एके पटेल को ज़मानत मिल गई.

गौरतलब है की हार्दिक पटेल पर 23 जुलाई 2015 को विसनगर में हुए पाटीदारों के प्रदर्शन के दौरान भारतीय जनता पार्टी के विधायक ऋषिकेश पटेल के दफ़्तर में तोड़फोड़ कराने का आरोप था. इस दंगे के दौरान उग्र भीड़ ने आगजनी कर एक कार को भी जला दिया था. अदालत ने तीनों को केवल दंगा करने यानी रायटिंग की धारा के तहत ही दोषी ठहराया है, कई अन्य धाराओं में बरी कर दिया है.

COMMENTS