हिंसक हुआ मराठा आंदोलन, उग्र भीड़ ने की तोड़फोड़- कई वाहनों को किया आग के हवाले

हिंसक हुआ मराठा आंदोलन, उग्र भीड़ ने की तोड़फोड़- कई वाहनों को किया आग के हवाले

आज महाराष्ट्र के कई जिलों में बंद बुलाया गया है. बंद के दौरान उग्र हुए आन्दोलनकारियों ने हाईवे जाम कर कर दिया और कई वाहनों को आग लगा दी. गौरतलब है की ...

मोदी सरकार का मेगा प्लान: अब 25 साल तक मुफ्त मिलेगी बिजली, बस कीजिये ये काम
इस होली हो जाइये मालामाल, धन-लाभ के लिए करें बस ये उपाय और दूर करें दरिद्रता
महज एक डिवाइस बचा सकती है ट्रेन यात्रियों के रोजाना लाखों घंटे, बस रेलवे विभाग की नींद खुल जाये

आज महाराष्ट्र के कई जिलों में बंद बुलाया गया है. बंद के दौरान उग्र हुए आन्दोलनकारियों ने हाईवे जाम कर कर दिया और कई वाहनों को आग लगा दी. गौरतलब है की यह बंद मराठा आरक्षण की मांग को लेकर मराठा आंदोलनकारियों द्वारा किया गया हैं. आन्दोलन के हिंसक रूप में आने के बाद आंदोलनकारियों ने कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया है तो वहीं दूसरी ओर कई जगह लोगों ने चक्का जाम कर रखा है.

मराठा मोर्चा के लोगों ने औरंगाबाद पुणे हाइवे सड़क पर बंद लगा रखा है. इस आंदोलन ने हिंसक रूप ले लिया है क्योंकि आरक्षण की मांग को लेकर सोमवार को एक युवक ने ख़ुदकुशी कर ली, परिणाम ये हुआ की इसके बाद आंदोलन और भड़क गया है. आज इस लड़के के अंतिम संस्कार में पहुंचे शिवसेना सांसद चंद्रकांत खैरे को आंदोलनकारियों ने भगा दिया.

आपकी जानकारी के लिए बता दें की औरंगाबाद में आज एक और लडके ने खुदखुशी करने का प्रयास किया. आन्दोलन का प्रभाव आस-पास के इलाकों और लातूर और बीड जिलों पर भी देखने को मिला. इन इलाको में स्कूल और कॉलेजों में भी अवकाश किया गया हैं.

औरंगाबाद में जलसमाधि आंदोलन का समर्थन करने वाले आंदोलनकारी काका साहेब शिंदे की मृत्यु के पश्चात आंदोलन तेज हो गया. प्राप्त जानकारी के अनुसार, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने युवक की मृत्यु पर दुःख व्यक्त करते हुए उसके परिवार को मदद का भरोसा देते हुए लोगों से हिंसा नहीं करने की अपील भी की हैं.

आपको जानकर हैरानी होगी की सहायता करने पहुंचे मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को क्रांतिकारी मोर्चा घेरने की  योजना बना रहे थे. पुलिस ने एहतियाती तौर पर मराठा क्रांति मोर्चा के कम से कम 20 सदस्यों को हिरासत में लिया है. आपको बता दें की ये लोग उस समारोह स्थल की ओर बढ़ रहे थे जहां पर आज मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस पहुंचने वाले थे. मुख्यमंत्री फडणवीस सोमवार को पुणे के चिंचवड इलाके में क्रांतिवीर चापेकर राष्ट्रीय संग्रहालय के भूमि पूजन सहित कई समारोह में शिरकत के लिए जाने वाले थे.

गौरतलब है की महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने विधानसभा में कहा है की यदि बंबई उच्च न्यायालय मराठा समुदाय के लिए आरक्षण की अनुमति देता है तो प्रदेश में खाली 72 हजार पदों को की भर्ती करते समय 16% पद समुदाय के लोगों के लिए आरक्षित किए जाएंगे.

COMMENTS