मोदी सरकार के प्रयासों से मिटने वाला है पाकिस्तान का नामोनिशान, बांग्लादेश भी हुआ राजी

मोदी सरकार के प्रयासों से मिटने वाला है पाकिस्तान का नामोनिशान, बांग्लादेश भी हुआ राजी

जब से पाकिस्तान आजाद हुआ है उस समय से ही भारत और बांग्लादेश बॉर्डर पर लगे पिल्लरों पर ‘ईस्ट पाकिस्तान’ लिखा हुआ है. 1971 में बांग्लादेश पाकिस्तान से आ...

अब आपको मिलेगी सिर्फ 21 दिन में नौकरी, 1 जनवरी से मोदी सरकार शुरू करने जा रही है बड़ी योजना
किसानों को बड़ा तोहफा देने की तैयारी में केंद्र सरकार, केसीसी में बदलाव या कर्जमाफी संभव
अमेरिका ने दिखाया भारत से मित्रता का दम, पाकिस्तान को दिया ये बड़ा झटका

जब से पाकिस्तान आजाद हुआ है उस समय से ही भारत और बांग्लादेश बॉर्डर पर लगे पिल्लरों पर ‘ईस्ट पाकिस्तान’ लिखा हुआ है. 1971 में बांग्लादेश पाकिस्तान से आजाद हो गया और नया देश बांग्लादेश के नाम से बन गया लेकिन बॉर्डर पर लगे पिल्लरों पर अब भी ‘ईस्ट पाकिस्तान’ लिखा हुआ है. लेकिन अब यह नाम ‘ईस्ट पाकिस्तान’ जल्द ही इतिहास की बात हो जाएगी.East Pakistan

केंद्र सरकार के अथक प्रयासों के बाद भारत-बांग्लादेश के बॉर्डर पिलर जिसमें ईस्ट पाकिस्तान लिखा है उसकी जगह पर बांग्लादेश लिखा जाएगा. आपको बता दें कि 1947 में देश का बंटवारा होने के बाद मौजूदा पाकिस्तान को पाकिस्तान और बांग्लादेश को ईस्ट पाकिस्तान (East Pakistan) के तौर पर जाना जाता था.

आपको बता दें कि 1947 में जब देश आजाद हुआ उसी समय दोनों देशों की बॉर्डर का निर्धारण करने के लिए ये पिलर लगाये गए थे. 1971 में पाकिस्तान से अलग होने के बाद भी बांग्लादेश ने ये पिल्लर नहीं हटाये. लेकिन अब भारत ने बांग्लादेश को भी इस बात के लिए राजी कर लिया है की वह ईस्ट पाकिस्तान(East Pakistan)  लिखे इन पिल्लरों को हटा दें और उनकी जगह बांग्लादेश का नाम लिखे हुए पिल्लर लगाये.

गृह मंत्रालय से जुड़े सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पहले फेज में बांग्लादेश बीएसएफ की मदद से असम और पश्चिम बंगाल राज्य के 44 बॉर्डर पिलर पर लिखे ईस्ट पाकिस्तान के नाम को हटाकर उसकी जगह बांग्लादेश लिखे पत्थर के पिलर लगाएगी.East Pakistan

साल 2016 में मोदी सरकार ने सीमा पर लगे बॉर्डर पिल्लर जिनमें पाकिस्तान का नाम लिखा हुआ है, को बदलने के प्रयास तेज किये थे. गृह मंत्रालय ने इसके लिए बाकायदा विदेश मंत्रालय से संपर्क कर तमाम औपचारिकताओं को पूरा किया. उसके बाद अब जाकर बॉर्डर पिलर हटाने को लेकर बांग्लादेश कदम उठा रहा है. आने वाले एक-दो सप्ताह में इनको हटाने का काम बांग्लादेश और भारत की बॉर्डर गार्ड फोर्स की तरफ से शुरू कर दिया जाएगा.

COMMENTS