जींद उपचुनाव: पहली बार खिला कमल, 47 सालों से कोई भी नहीं तोड़ पाया ये रिकॉर्ड

जींद उपचुनाव: पहली बार खिला कमल, 47 सालों से कोई भी नहीं तोड़ पाया ये रिकॉर्ड

2019 के आम चुनावों से पहले हरियाणा के जींद में हुए विधानसभा उपचुनाव में एक बार फिर मोदी लहर देखने को मिली. लेकिन इस बार भी कांग्रेस का ट्रंप कार्ड नही...

बीजेपी ने जारी की चुनाव प्रभारियों की सूची, एमपी से धर्मेन्द्र प्रधान तो राजस्थान से जावडेकर
हरियाणा: नगर निकाय चुनावों में बीजेपी की बम्पर जीत, पांचों सीटों पर किया क्लीन स्वीप
बीजेपी की सुप्रीम कोर्ट में याचिका, ‘दो बच्चे के क़ानून’ को लागू करने की मांग

2019 के आम चुनावों से पहले हरियाणा के जींद में हुए विधानसभा उपचुनाव में एक बार फिर मोदी लहर देखने को मिली. लेकिन इस बार भी कांग्रेस का ट्रंप कार्ड नहीं चल पाया और बीजेपी ने रणदीप सुरजेवाला को पटखनी देकर कांग्रेस को बड़ा झटका दिया है. हरियाणा में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने जींद विधानसभा सीट के उपचुनाव की गुरुवार को जारी मतगणना में जीत हासिल कर ली है. जींद में कांग्रेस की तैयारियों को देखकर लग रहा था की रणदीप सुरजेवाला कमाल दिखाने वाले हैं लेकिन हरियाणा में जीत की लय बनाने की कोशिश में कांग्रेस नाकाम रही.jind election result 2019

जींद में कांग्रेस की हार से एक बार फिर उन उम्मीदों पर पानी फिर गया है जिनमें ये लग रहा था की 47 सालों से कायम रिकॉर्ड टूट जायेगा. लेकिन इस रिकॉर्ड को तोड़ने में कांग्रेस नाकामयाब रही. दरअसल, साल 1972 के बाद कोई जाट समुदाय का प्रत्याशी जींद में चुनाव नहीं जीत पाया है. रणदीप सुरजेवाला की उम्मीदवारी से ऐसा लग रहा था कि जींद का यह रिकॉर्ड टूट जाएगा इस बार, मगर आज भी जाट समुदाय का कोई नेता नहीं जीत पाया और यह रिकॉर्ड कायम रह गया.

गौरतलब है की रणदीप सुरजेवाला कांग्रेस के दिग्गज नेता हैं और जाट समुदाय से ही आते हैं. जींद उपचुनाव में 31 जनवरी को घोषित नतीजों में रणदीप सुरजेवाला तीसरे नंबर पर रहे. यहाँ 28 जनवरी को हुए उपचुनाव में बीजेपी के प्रत्यासी कृष्ण लाल मिड्ढा ने 12248 वोटों से जीत दर्ज की है. जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के दिग्विजय सिंह चौटाला दूसरे नंबर पर रहे. यानी बीजेपी नंबर एक, जेजेपी नंबर दो और कांग्रेस नबंर तीन पार्टी रही.jind election result 2019

आपको बता दें की पिछले दो चुनावों में इस सीट से विजेता रही INLD इस बार अपनी जमानत भी नहीं बचा पाई. इस बार INLD ने उमेद सिंह को उम्मीदवार के रूप में उतारा था. दो बार के इनेलो विधायक हरि चंद मिड्ढा के निधन के बाद उपचुनाव हुआ है जिनके बेटे कृष्ण मिड्ढा भाजपा के टिकट पर चुनावी मैदान में उतरे.

जींद उपचुनावों में किस पार्टी को कितने मत मिले-

बीजेपी – 50566, जेजेपी – 37631, कांग्रेस – 22740, LSP – 13582 और इनेलो – 3454 तथा नोटा को 345 वोट मिले.

COMMENTS